Bengal Politics: उपचुनाव के पहले ‘बांग्लादेश’ पर सुलगी ‘बंगाल की सियासत’, उछल रहा है हिंदुओं पर हमले का मुद्दा

Hindu Demonstration

पश्चिम बंगाल की चार विधानसभा सीटों के लिए होने जा रहे उपचुनाव (West Bengal Assembly Bypolls) के दौरान बांग्लादेश में हिंदुओं (Bangladesh Hindu Attack) पर हमले का मुद्दा जमकर उछल रहा है. पश्चिम बंगाल की चार विधानसभा सीटों खड़दह, शांतिपुर, दिनहाटा और गोसाबा में 30 नवंबर को मतदान है. इनमें से दो निर्वाचन क्षेत्र भारत-बांग्लादेश अंतरराष्ट्रीय सीमा के 20 किलोमीटर के दायरे में स्थित हैं. इन विधानसभा इलाकों में चुनाव प्रचार (Election Campaign) के दौरान के दौरान अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा, कश्मीर में हिंदुओं को निशाना बनाकर आतंकी हमले और हाल में दुर्गा पूजा समारोहों के दौरान बांग्लादेश में सांप्रदायिक हिंसा जैसे मुद्दे खूब उछल रहे हैं.

बीजेपी ने जॉय साहा (खड़दह), पलाश राहा (गोसाबा), निरंजन विश्वास (शांतिपुर) और अशोक मंडल (दिनहाटा) को अपना उम्मीदवार बनाया है, जबकि तृणमूल ने पूर्व विधायक उदयन गुहा (दिनहाटा), राज्य के कृषि मंत्री शोभनदेव चटर्जी (खड़दह), ब्रज किशोर गोस्वामी (शांतिपुर) और सुब्रत मंडल (गोसाबा) को अपना उम्मीदवार बनाया है. बीजेपी का चुनावी अभियान जहां हिंदुओं की भावनाओं पर केंद्रित रहा है और वह उसी को भुनाने की कोशिश में जुटी है, वहीं तृणमूल ने राष्ट्रीय पार्टी की इस तरह की कोशिशों की कड़ी आलोचना की है.

बीजेपी ने हिंदुओं पर हमले को बनाया चुनावी मुद्दा

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बांग्लादेश में कथित तौर पर हिंदुओं को निशाना बनाए जाने की घटनाओं पर अब तक चुप्पी साध रखी है. इस बीच, बीजेपी की बंगाल इकाई ने उपचुनाव में इसे अपना मुख्य चुनावी मुद्दा बना लिया है और जिलों में विरोध मार्च और सड़कों पर प्रदर्शन शुरू कर दिए हैं. शांतिपुर और दिनहाटा दोनों क्षेत्र भारत-बांग्लादेश सीमा के 10 से 20 किमी के दायरे में स्थित हैं, दूसरी तरफ बांग्लादेश के रंगपुर और राजशाही जिले इससे लगे हुए हैं. ये बांग्लादेश के वही जिले हैं जहां से दुर्गा पूजा उत्सव के बाद कथित तौर पर सांप्रदायिक हिंसा की घटनाएं सामने आई हैं. उत्तर और दक्षिण 24 परगना जिलों के हिस्से भी बांग्लादेश के साथ सीमा साझा करते हैं, लेकिन खड़दह अंतरराष्ट्रीय सीमा क्षेत्र से काफी दूर है, जबकि गोसाबा और बांग्लादेश के बीच सीमा के साथ एक नदी बहती है.

टीएमसी ने ‘सांप्रदायिक मोड़’ देने का लगाया आरोप

बीजेपी के अखिल भारतीय उपाध्यक्ष दिलीप घोष ने बांग्लादेश में हिंदू अल्पसंख्यकों पर हमले में राज्य सरकार की चुप्पी पर सवाल उठाया. उन्होंने कहा कि बंगाली हिंदुओं को सताया जा रहा है. जान गंवाई जा रही है, संपत्ति नष्ट की जा रही है, महिलाओं को सताया जा रहा है, संतों को मारा जा रहा है, इसे बंद करना करना होगा. इस बीच, तृणमूल कांग्रेस नेताओं ने बीजेपी नेताओं के इस तरह के विरोध प्रदर्शनों और बयानों को बंगाल में स्थिति को ‘सांप्रदायिक’ मोड़ देने की कोशिश करार दिया है.

ये भी पढ़ें-

Bangladesh Hindu Attack: ‘हमले से केंद्र सरकार चिंतित, बांग्लादेश सरकार से होगी बातचीत’, बोले केंद्रीय गृह राज्य मंत्री निसिथ प्रमाणिक

Bangladesh Hindu Attack: ‘बांग्लादेश पीस कीपिंग फोर्स भेजे UNO’ बोली VHP, बुधवार को दिल्ली सहित पूरे देश में करेगी प्रदर्शन