हिंदूवादी नेता चक्रपाणि महाराज को अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद की धमकी, सिर धड़ से कलम कर देंगे, जांच में जुटी दिल्ली पुलिस

Chakrapani

हिंदूवादी नेता चक्रपाणि (Swami Chakrapani) महाराज को जान से मारने की धमकी देने की बात सामने आ रही है. इसकी पुष्टि खुद चक्रपाणि महाराज द्वारा दिल्ली पुलिस (Delhi Police) को दी गई लिखित शिकायत से होती है. हालांकि दिल्ली पुलिस अभी इस पर कुछ खुलकर बोलने को राजी नहीं है. जबकि पीड़ित चक्रपाणि महाराज ने इस बारे में नई दिल्ली जिले के मंदिर मार्ग थाने/साइबर थाने सेल में घटना की लिखित शिकायत दी है. यह शिकायत बुधवार को ही दे दी गई है. शिकायत के मुताबिक पीड़ित हिंदूवादी नेता नेता को धमकी भी बुधवार को ही दी गई. जिस नंबर से धमकी दी गई उसका जिक्र भी शिकायतकर्ता ने पुलिस को दी शिकायत में किया है.

नई दिल्ली जिला पुलिस की तरफ से इस बारे में बुधवार देर रात खबर लिखे जाने तक कोई अधिकृत बयान जारी नहीं किया गया था. घटनाक्रम के मुताबिक चक्रपाणि महाराज के पास बुधवार शाम करीब साढ़े पांच से छह बजे के बीच एक अनजान नंबर से व्हाट्सएप कॉल आई थी. बुधवार देर रात टीवी9 भारतवर्ष से बात करते हुए चक्रपाणि महाराज ने कहा, “कॉल करने वाले ने पहले दूसरी ओर से पूछा कि तुम चक्रपाणि महाराज बोल रहे हो. मैंने जैसे ही हां कहा उधर से, अनजान शख्स बोला कि तुम अपने बचने का जो इंतजाम कर सकते हो कर लो, मैं तुम्हें पहले एके-47 से मारूंगा उसके बाद तुम्हारी गर्दन धड़ से अलग कर दूंगा.” कॉल चूंकि व्हाट्सएप पर थी लिहाजा रिकॉर्ड नहीं हो सकी. हां घटना की सूचना आनन-फानन में पीड़ित ने नई दिल्ली जिला के मंदिर मार्ग साइबर थाना पुलिस को दी.

धमकी भरे कॉल मिलते ही दिल्ली पुलिस ने दर्ज की FIR

टीवी9 भारतवर्ष के पास मौजूद और पीड़ित द्वारा उपलब्ध कराई गई शिकायत के मुताबिक थाना पुलिस ने शिकायत मिलते ही 204-एलसी नंबर पर उसे दर्ज करके तफ्तीश शुरू कर दी है. जिस नंबर से धमकी भरी कॉल की गई उसका विदेशी कोड +971 था. हालांकि पीड़ित ने शिकायत में पूरे नंबर का जिक्र किया है. जिसे यहां एहतियातन नहीं दिया जा रहा है. दर्ज शिकायत के मुताबिक धमकाने वाले ने खुद को दाऊद इब्राहिम का आदमी बताया. उसने यह भी चेताया कि यह काम (चक्रपाणि महाराज की हत्या) इस बार होकर रहेगी. इसे मजाक में लेने की गलती मत करना. यहां उल्लेखनीय है कि सन् 2015 में जबसे चक्रपाणि महाराज ने किसी जमाने में मुंबई की गली के गुंडे रहे दाऊद इब्राहिम की कार खरीदी थी. और उसके वहां से लाकर गाजियाबाद में फूंक डाला था. तभी तो डी कंपनी चक्रपाणि महाराज की जान के पीछे हाथ धोकर पड़ी है. हालांकि लाख कोशिशों के बाद भी अभी तक दाऊद से गैंग्स्टर चक्रपाणि महाराज का कर बाल भी बांका नहीं पाए हैं.

साल 2016 में स्वामी चक्रपाणि को जान से मारने की मिली थी धमकी

कहने को साल 2016 में छोटा शकील ने भी चक्रपाणि महाराज को ठिकाने लगाने की धमकी दी थी. बकौल स्वामी चक्रपाणि महाराज, उस वक्त दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने भाड़े के तीन सुपारी किलर्स को गिरफ्तार भी किया था. उन सबने स्वीकार किया था कि वे चक्रपाणि महाराज की तलाश में भटक रहे थे. चक्रपाणि महाराज का काम तमाम या कोई नुकसान कर पाते उससे पहले वे सब खुद ही दिल्ली पुलिस द्वारा धर लिए गए. फिलहाल हाल ही में कुछ दिन पहले चक्रपाणि महाराज ने जामा मसजिद से संबंधित भी एक बयान दिया था. आशंका इस बात की भी है कि कहीं उसी सिलसिले में कुछ असामाजिक तत्व खार खाए न घूम रहे हों. फिलहाल जो भी हो, जिस बैखौफी से धमकी दी गई है, उसे पीड़ित और दिल्ली पुलिस गंभीरता से लेकर आगे बढ़ रहे हैं. ताकि आइंदा कहीं जोखिम की कोई गुंजाईश ही बाकी न बचे. बताना जरूरी है कि चक्रपाणि महाराज अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष होने के नाते भी, अक्सर विध्वंसकारी तत्वों के निशाने पर बने रहते हैं. इस तमाम खबर के बीच एक सवाल जेहन में कौंधना लाजिमी है कि अगर दाऊद इब्राहिम जैसे गैंग्स्टर द्वारा चक्रपाणि महाराज जैसी शख्शियत को ठिकाने ही लगाना होगा, तो वह इस तरह की व्हाट्सएप कॉल पहले ही करके अपना प्लान चौपट कराने का इंतजाम खुद क्यों कराएगा?

Similar Posts