हर बार सॉरी बोलना हेल्दी रिलेशनशिप के लिए नहीं ठीक, जानिए ये 4 ज़रूरी बातें

News, New Delhi दो लव पार्टनर्स के बीच झगड़ा या कोई विवाद होता है तो समझदार कपल एक दूसरे को सॉरी बोलकर बात खत्म कर देते हैं और आगे बढ़ जाते हैं. दोनों तरफ से होने वाली ये पहल ही रिश्ते की मजबूती का आधार बनती है.

लेकिन कुछ मामले ऐसे भी होते हैं जिसमें इस सॉरी की उम्मीद केवल एक पार्टनर से ही की जाती है. मतलब हर बार वो ही सॉरी कहता है, चाहे उसकी गलती भी ना हो, फिर भी उसे ही माफी मांगनी है

कहते हैं कि जहां प्यार होता है, तकरार भी वहीं होती है. लेकिन अगर तकरार लंबी हो जाए तो वो रिलेशनशिप के लिए नुकसानदायक हो जाती है. जब भी दो लव पार्टनर्स के बीच झगड़ा या कोई विवाद होता है तो समझदार कपल एक दूसरे को सॉरी बोलकर बात खत्म कर देते हैं और आगे बढ़ जाते हैं. दोनों तरफ से होने वाली ये पहल ही रिश्ते की मजबूती का आधार बनती है.

लेकिन कुछ मामले ऐसे भी होते हैं जिसमें इस सॉरी की उम्मीद केवल एक पार्टनर से ही की जाती है. मतलब हर बार वो ही सॉरी कहता है, चाहे उसकी गलती भी ना हो, फिर भी उसे ही माफी मांगनी है. ये वो समझदार पार्टनर होते हैं जो अपना रिश्ता संभालने की भरपूर कोशिश में लगे रहते हैं, वो चाहते हैं कि बात ना बिगड़े इसलिए खुद झुक जाते है.

ऐसा करना गलत नहीं है, लेकिन अगर बार-बार आपको ऐसा करना पड़ता है या फिर ऐसा करने के लिए आपको मजबूर किया जाता है, तो आपको रिलेशनशिप में थोड़ा सतर्क होने की जरूरत है. कुछ बातों पर ध्यान देने की जरूरत है.

सॉरी कहना मजबूरी तो नहीं?
जब आपकी किसी बात पर अपने पार्टनर के साथ लड़ाई होती है, तो अचानक से सब कुछ खत्म होने जैसा दिखाई देता है. दोनों तरफ से जमकर कहासुनी होती है. गलती किसी की भी हो, लेकिन अगर आपको ही हर बार सॉरी बोलना पडता है, और आपका पार्टनर कभी आपके पास आकर चीजें ठीक करने की कोशिश नहीं करता है. तो इससे लगता है कि आप एक ऐसे पार्टनर के साथ अपने रिश्ते को आगे बढ़ा रहे हैं जिनके लिए आपका साथ होना ना होना कोई मायने नहीं रखता है, वो आपको डॉमिनेट करने की कोशिश कर रहा है.

रिश्ते में खत्म कर देंगे अपनी वैल्यू
अगर आपकी गलती हो, तो सॉरी कह देने में कोई बुराई नहीं है. चीजों को सही करना एक अच्छे पार्टनर की निशानी है. लेकिन अगर आपके पार्टनर की गलती हो फिर भी वो कभी सॉरी ना कहे और आप ही उन्हें सॉरी कहें ताकि रिश्ता बना रहे. तो समझ लीजिए आप उन्हें खुद पर हावी होने का न्योता दे रहे हैं.

धीरे-धीरे आपके पार्टनर को इसकी आदत हो जाएगी और रिश्ते में आपकी रिस्पेक्ट लगातार कम होती चली जाएगी. इसलिए अपने आत्मसम्मान के साथ खिलवाड़ ना करें. जो सही हो उसका साथ दें. झुकना बुरा नहीं है, लेकिन अगर समाने वाला आपके झुकने को अपनी जीत समझे और हमेशा वही चाहे तो वो गलत है.

कहीं बात बिगड़ ना जाए
लव रिलेशनशिप में कोई भी झगड़ा क्यों ना हो, उसे सुलझाने का काम दोनों पार्टनर्स का होता है. लेकिन अगर आप ही बार-बार सॉरी कहते रहेंगे तो पार्टनर को ये लगेगा कि वो हमेशा सही होता है, उसका मन अहम और अहंकार से भर जाएगा. वो आपको हमेशा गलती करने वाला या झुका हुआ देखना चाहेगा. वो किसी भी फैसले में आपको भागीदार नहीं बनाएगा.

अब ये रिश्ता एक तरफा हो जाएगा, मतलब जैसा वो चाहेगा वैसा. और एक वक्त आपको इसमें घुटन महसूस होने लगेगी. बार-बार आपके सॉरी कहने से रिश्ते की डोर सुलझेगी नहीं बल्कि और उलझ जाएगी.

Similar Posts