सीएम योगी आदित्यनाथ का बड़ा ऐलान, अयोध्या में मठों और धार्मिक संस्थाओं को दी जाएगी जमीन

CM Yogi Adityanath instructed to constitute a board for the welfare of elderly saints and priests

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने मठों और धार्मिक संस्थाओं के लिए बड़ा ऐलान किया है. अपने वाराणसी (Varanasi) दौरे के दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अयोध्या में मठों, धार्मिक संस्थाओं को जमीन उपलब्ध कराई जाएगी और इसके लिए सरकार तैयारी कर रही है. उन्होंने कहा कि भगवान श्रीराम की नगर अयोध्या (Ayodhya) में भगवान राम की पूजा के दौरान मठों से जुड़े श्रद्धालुओं के ठहरने और खाने की बेहतर व्यवस्था होगी. गौरतलब है कि तीन दिन पहले ही अयोध्या नगर निगम ने भी मठों और धार्मिक धर्मशालाओं के लिए टैक्स में छूट का ऐलान किया था.

योगी आदित्यनाथ शुक्रवार को वाराणसी के दौरे पर थे और वहां उन्होंने भगवान कालभैरव के दर्शन किए. सीएम योगी आदित्यनाथ ने जंगमबाड़ी मठ में पट्टाभिषेक समारोह के तहत विश्व वीरशैव महासम्मेलन के उद्घाटन के मौके पर कहा कि राज्य सरकार अयोध्या में मठों और धार्मिक संस्थाओं को जमीन देने की योजना बना रही है. जल्द ही इसका ऐलान किया जाएगा. उन्होंने कहा कि हर संप्रदाय, संप्रदाय, धर्म का गंतव्य एक ही है और केवल रास्ते अलग अलग हैं और सभी को एक दूसरे की भावना का सम्मान करना चाहिए.

सीएम योगी ने किया विश्व वीरशैव महासम्मेलन का उद्घाटन

वाराणसी में सीएम योगी ने विश्व वीरशैव महासम्मेलन का उद्घाटन किया और उन्होंने कहा कि किसी भी मठ में पट्टाभिषेक का बहुत महत्व है और ज्ञान की ये परंपरा एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक पूरी व्यवस्था को सौंपने के लिए अग्रसर रहती है. जगद्गुरु डॉ चंद्रशेखर शिवाचार्य महास्वामी ने अंगवस्त्रात्म धारण कर सीएम को सम्मानित किया. सीएम ने कहा कि प्रधानमंत्री ने देश को दिखाया है कि धार्मिक स्थलों का स्वरूप कैसा होना चाहिए. उन्होंने कहा कि देश-दुनिया के भक्तों को काशी विश्वनाथ धाम के स्वरूप पर गर्व है और अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर का निर्माण इसका सबसे अच्छा उदाहरण है.

अयोध्या में मंदिर और धर्मशालाएं होंगी टैक्स फ्री

सीएम योगी आदित्यनाथ के अयोध्या में जमीन देने के ऐलान से पहले अयोध्या नगर निगम ने मंदिर और धर्मशालाओं को नगर निगम टैक्स में छूट देने का ऐलान किया है. अयोध्या नगर निगम बोर्ड बैठक में बुधवार को कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए और इसमें मंदिर एवं धर्मशाला को कर मुक्त करने का फैसला किया है. हालांकि इसके बदले उन्हें टोकन मनी ली जाएगी और जो पांच हजार रुपये तक होगी.

Similar Posts