सही में खड़े होकर पानी पीने से घुटने खराब हो जाते हैं? आज जान लीजिए इस बात की सच्चाई

Drining Watre

अक्सर लोग कहते हैं कि कभी भी खड़े होकर पानी नहीं पीना चाहिए. शायद ये सलाह आपको भी किसी ने दी होगी या फिर हो सकता है कि आप भी किसी को ये सलाह देते होंगे. कहा जाता है कि अगर आप खड़े होकर पानी पीते (Drinking Water) हैं तो ये सीधे आपको पांव में जाता है और इससे घुटने खराब होने का खतरा बढ़ जाता है. साथ ही खड़े होकर पानी पीना पेट के लिए भी खतरनाक माना जाता है. मगर कई लोग खड़े होकर पानी पीने से घुटने खराब होने की बात को सच नहीं मानते हैं. तो आज हम आपको बताते हैं कि क्या सही में खड़े होकर पानी पानी से घुटने खराब हो जाते हैं?

हम आपको डॉक्टर्स की ओर से दी गई जानकारी के आधार पर बताते हैं खड़े होकर पानी पीने से होने नुकसान में कितनी बात सही है. इसके बाद आप समझ पाएंगे कि किस तरह पानी पीना चाहिए और क्या सही में खड़े होकर पानी पीने से वो पांव में चला जाता है? जानते हैं इससे जुड़ी कुछ खास बातें…

क्या कहा जाता है?

कहा जाता है कि खड़े होकर पानी पीने से शरीर में कई दिक्कतें होती हैं. ऐसा करने से जोड़ों में दर्द, किडनी, लिवर डैमेज होने का खतरा रहता है और अगर लंबे समय तक ऐसा किया जाए तो काफी दिक्कतें हो सकती है. यह भी माना जता है कि अगर खड़े होकर पानी पिएं तो वो तेजी से ट्रैवल करता है और यह जोड़ों में इकट्ठा हो जाता है और इसके अलावा ये किडनी में अच्छे से फिल्टर नहीं हो पाता है. वैसे आपको ये जानकर हैरानी होगी कि इस संदर्भ में कोई खास रिसर्च रिपोर्ट सामने नहीं आई है.

ये बात कितनी सही?

क्विंट पर छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, इंटरनेट पर शेयर की जा रही इस जानकारी और लोगों के बीच में फैली इस जानकारी को लेकर लेकर रिसर्च नहीं की गई है. साथ ही किसी भी रिसर्च में यह सामने नहीं आया है कि खड़े होकर पानी पीने से ऐसा होता है. इस रिपोर्ट में कई डॉक्टर्स से बात करके बताया गया है कि इस बात में कोई सच्चाई नहीं है. डॉक्टर्स का कहना है कि ऐसे तथ्य बिल्कुल भी सही नहीं है. डॉक्टर ने बताया, ‘आज जो भी खाते हैं या पीते हैं वो फुड पाइप से पेट में ही जाता है और उसके बाद आंतों में जाता है और यहां ऑब्जर्व हो जाता है.

ऐसा नहीं है कि वो सीधे किडनी या जॉइंट्स में चला जाता है. पानी खून के साथ फ्लो करता है और शरीर के सभी हिस्सों में पहुंचता है. इसके साथ ही डॉक्टर्स का कहना है कि आप किसी भी तरीके से पानी पी सकते हैं. लेकिन, बस पानी को तेजी से पीने से बचे, क्योंकि ऐसा करने से पानी अटक सकता है. ये कई थैरेपी में कहा जाता है कि हमेशा बैठकर ही पानी पीना चाहिए, लेकिन ऐसे केस नहीं आते हैं, जिसमें खड़े होकर पानी पीने से कोई बीमारी हो जाए. लेकिन, अगर खाने की बात होती है तो शरीर का पोश्चर काफी निर्भर करता है.

रिपोर्ट के अनुसार, साइंस के हिसाब से चलने या खड़े होने पर हमारे शरीर में रक्त का संचार अपने आप बाहों और अंगों की ओर हो जाता है, इसलिए हमारे पाचन तंत्र तक पहुंचने वाले खून की मात्रा भोजन को पचाने के लिए पर्याप्त नहीं होती है. वहीं, पानी भी पाचन तंत्र के माध्यम से यात्रा करता है, मगर मुख्य रूप से शरीर द्वारा आराम से अवशोषित होता है. इसे ठोस भोजन की तरह तोड़ा और पचाना नहीं पड़ता. इसलिए पानी किसी भी तरीके से पिया जा सकता है.

Similar Posts