शाह की रैली से पहले सीमांचल में सियासी सरगर्मियां तेज, जवाब में महागठबंधन भी करेगी जनसभा

बिहार का सीमांचल सियासी अखाड़ा बनने जा रहा है. 23 सितंबर को अमित शाह की होने वाली रैली के जवाब में अब महागठबंधन वहां चार-चार रैलियां करने वाली है.

‘PM मोदी के साथ बिहार के लोग’

Image Credit source: File photo

बिहार के सीमांचल में अमित शाह की रैली से पहले सियासी सरगर्मियां तेज हो गई है. सत्तारूढ़ महागठबंधन ने भारतीय जनता पार्टी पर रैलियों से पहले सांप्रदायिक तनाव पैदा करने का प्रयास करने का आरोप लगाया है. इसके साथ ही महागठबंधन ने अमित शाह की रैली के जवाब में चार-चार रैली करने का ऐलान किया है. दरअसल केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 23 सितंबर को बिहार आने वाले हैं. शाह पूर्णिया और किशनगंज में दो रैलियां करेंगे.

जिसके बाद बीजेपी के इस दाव का जवाब देने के लिए महागठबंधन ने भी कमर कस ली है और यहां चार रैलियां करेगी. इसके लिए महागठबंधन सीमांचल में रैलियों की तैयारी में जुट गई है.

‘बीजेपी की रैली बांटने के लिए’

महागठबंधन की रैलियों को लेकर जनता दल यूनाइटेड के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने कहा है कि हमारी रैलियां सांप्रदायिक सौहार्द और आपसी एकजुटता बढ़ाने के लिए होगी. जबकि अमित शाह की रैली लोगों को बांटने के लिए है. ललन सिंह ने कहा कि महागठबंधन की रैली के लिए तेजस्वी यादव ने अपनी सहमति दे दी है और जल्द ही महागठबंधन के नेता आपस में मिल बैठकर रैली की तारीख तय कर लेंगे. उन्होंने कहा कि आरजेडी भी जेडीयू की तरह ही हमेशा सांप्रदायिक सौहार्द के लिए खड़ी रही है.

‘PM मोदी के साथ बिहार के लोग’

अमित शाह की रैली के जवाब में चार रैली करने पर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने कहा कि 2022 का बिहार 2015 से अलग है और लोग जेडीयू के विशेष दर्जे के चुनावी मुद्दे के झांसे में नहीं आने वाले हैं.लोगों ने देखा है कि बीजेपी ने बिहार के लिए क्या किया है और वे हमेशा प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के साथ रहेंगे. बिहार की जनता जात-पात से अलग हटकर बीजेपी के साथ खड़ी है.

ये भी पढ़ें



बीजेपी के दाव से घबराहट

महागठबंधन की रैली के लिए पूर्णिया,किशनगंज और कटिहार को लेकर विमर्श चल रहा है.अब ललन सिंह भले ही सामाजिक सौहार्द की बात कर रहे हो लेकिन हकीकत यह है कि अमित शाह सीमांचल में जो दांव खेलने जा रहे हैं उससे आरजेडी और जेडीयू में कहीं ना कहीं घबराहट है जिसके बाद वहां महागठबंधन ने रैली करने का निर्णय लिया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.