शख्स ने व्हीलचेयर पर बैठकर फतह की अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी, कहानी जान लोग बोले- ‘मेहनत से नामुमकिन को मुमकिन किया जा सकता है’

trending news in hindi

जब इंसान के अंदर मेहनत और लगन जैसे भाव कूट कूट के भरे हो तो वह जरूर एक ना एक दिन लोगों के लिए मिसाल बन जाता है. शायद इसलिए कहा जाता है कि सफलता उसे ही मिलती है, जो प्रयास करता है. हार ना मानने की जिद इंसान को कभी ना कभी सफल जरूर बनाती है. इसके कई उदाहरण हमें देखने को मिल जाएंगे, लेकिन आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने व्हीलचेयर पर बैठकर माउंट किलिमंजारो (Mount Kilimanjaro) को फतह किया! माउंट किलिमंजारो 5,895 मीटर (19,341 फीट) है.

हम बात कर रहे हैं ब्रिटेन के मैनचेस्टर में रहने वाले 45 वर्षीय खिलाड़ी मार्टिन हिबर्ट की, जिन्होंने हिम्मत और जस्बे सफलता की ऐसी कहानी लिखी जो लोगों का मनोबल बढ़ाने के काम आएगी. 45 वर्षीय खिलाड़ी 2017 में इलाके में एक बम हमले के बाद लकवा मार गया. इस हमले में उनकी रीढ़ की हड्डी में गंभीर चोटें आईं. इस हादसे के बाद वह चलना फिरना तो छोड़िए हिलने-डुलने में भी असमर्थ थे, लेकिन यह उनके हौसले को कम करने के लिए काफी नहीं था.

अपनी इस कहानी को उन्होंने फेसबुक पर शेयर किया. उन्होंने पोस्ट शेयर करते हुए बताया कि एक सहायता समूह की मदद से इस उपलब्धि की शुरुआत की. अपने पोस्ट में उन्होंने आगे लिखा, ‘यहाँ, हम किलिमंजारो के शीर्ष पर हैं. पांच साल पहले, मैं अस्पताल में था, मुश्किल से चल पा रहा था. और यहां मैं पांच साल बाद किलिमंजारो के शीर्ष पर हूं.’

हिबर्ट की इस कहानी को ना सिर्फ सैकड़ों लोगों ने पसंद किया बल्कि कई लोगों ने इस अपने-अपने हैंडल से शेयर किया है. यही वजह है कि इंटरनेट पर खिलाड़ी की ये कहानी आते ही वायरल हो गई. एक यूजर ने इनके द्वारा शेयर किए पोस्ट पर कमेंट कर लिखा, ‘ अगर किसी के भीतर र मेहनत और लगन जैसे भाव हो तो बड़ी से बड़ी मुश्किल उसके आगे सिर झुकाती है.’ वहीं दूसरे यूजर ने कमेंट करते हुए लिखा, ‘ सफलता उसी को मिलती है जिसके भीतर हार ना जस्बा हो! एक अन्य यूजर ने पोस्ट पर कमेंट कर लिखा, ‘ सर की कहानी वाकई लोगों के मनोबल बढ़ाने के काम आएगी. इसके अलावा और भी कई लोगों ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी.

Similar Posts