वकार युनूस ने बर्बाद किया पाकिस्तान के इस क्रिकेटर का करियर! स्टार खिलाड़ी बोला- युवाओं से जलते हैं सीनियर

Waqar Younis

पाकिस्तान की क्रिकेट की दुनिया में एक समय पर अहमद शहजाद (Ahmed Shahzad) बड़ा नाम थे. उन्होंने भारतीय स्टार विराट कोहली के समय पर ही डेब्यू किया और उन्हें लंबी रेस का घोड़ा माना जाता था. शहजाद ने अपनी पारियों के दम पर खुद को साबित भी किया. हालांकि धीरे-धीरे खराब फॉर्म और इंजरी ने उन्हें टीम से बाहर कर दिया. हालांकि शहजाद का मानना है कि उनका करियर खत्म करने के लिए पाकिस्तान के दिग्गज खिलाड़ी वकार यूनुस (Waqar Younis) जिम्मेदार हैं.

शहजाद ने लगाया वकार युनूस पर गंभीर आरोप

शहजाद ने साल 2019 के बाद टीम के लिए कोई मुकाबला नहीं खेला है. साल 2016 में पाकिस्तान के पूर्व हेड कोच वकार यूनुस ने पीसीबी को रिपोर्ट देते हुए कहा था कि शहजाद को घरेलू क्रिकेट खेलना चाहिए ताकि वह टीम में जगह वापस बना सके. हालांकि शहजाद इन खबरों से सहमत नहीं है और उन्होंने अब वकार पर हमला बोला है. इस बारे में बयान देते हुए कहा, ‘मैंने अभी तक खुद रिपोर्ट नहीं देखी है लेकिन एक पीसीबी अधिकारी ने मुझे बताया कि यह सब बयान मुझे लेकर कहे गए थे लेकिन मुझे लगता है कि इस बारे में आमने-सामने होकर बात करनी चाहिए. मैं इसके लिए तैयार हूं. फिर देखते हैं कौन सही है और कौन गलत. उनके शब्दों ने मेरे करियर पर गलत असर डाला क्योंकि मैं अपन पक्ष कभी सामने नहीं रख पाया. यह एक पूरा प्लान था जिससे वह एक तीर से दो निशाने लगाना चाहते थे.’

पाकिस्तान को धोनी की जरूरत

शहजाद ने आगे कहा कि जिस तरह भारत में खिलाड़ियों को बैक किया जाता है ऐसा पाकिस्तान में नहीं होता. उन्होंने विराट कोहली का उदहारण देते हुए कहा, ‘मैंने पहले भी कहा है और फिर कहूंगा, कोहली का करियर कामयाब रहा क्योंकि उन्हें धोनी का साथ मिला. हालांकि पाकिस्तान में आपके साथी आपकी ही कामयाबी से जलते हैं. हमारे सीनियर खिलाड़ी यह बर्दाश्त ही नहीं कर पाते कि क्रिकेट की दुनिया में कोई उनसे बेहतर प्रदर्शन करे.’ शहजाद का कहना है कि कोहली ने उनके साथ ही डेब्यू किया था. कोहली को खराब फॉर्म में भी धोनी का साथ मिला और यही कारण है कि आज कोहली दुनिया के महानतम क्रिकेटर्स में शुमार हैं.’

अहमद शहजाद ने पाकिस्तान के लिए 81 वनडे मैच खेले हैं जिसमें उनके नाम 2605 रन है. वह इस फॉर्मेट में छह शतक और 14 अर्धशतक लगा चुके हैं. इसके अलावा उन्होंने 13 टेस्ट मैचों में 40.91 की औसत से 982 रन बनाए हैं. इस दौरान उन्होंने तीन शतक और चार अर्धशतक लगाए.

Similar Posts