रूस का बड़ा फैसला, कमला हैरिस और मार्क जकरबर्ग समेत कई अमेरिकी-कनाडाई लोगों के आने पर लगाई रोक

Kamala Harris

रूस (Russia) के विदेश मंत्रालय ने घोषणा की है कि उसने अमेरिकी उप राष्ट्रपति कमला हैरिस (Kamala Harris), मेटा के सीईओ मार्क जकरबर्ग (Mark Zuckerberg) और 27 अन्य प्रतिष्ठित अमेरिकियों के अपने देश में प्रवेश पर रोक लगा दी है. विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को अपनी वेबसाइट पर एक बयान में कहा कि अमेरिका के जो बाइडेन प्रशासन की ओर से बढ़ाए जा रहे रूस विरोधी प्रतिबंधों के जवाब में ये कदम उठाया गया है. कमला हैरिस और मार्क जुकरबर्ग के अलावा लिंक्डिन और बैंक ऑफ अमेरिका के सीईओ, रूस केंद्रित मेदुजा न्यूज वेबसाइट के संपादक आदि के भी रूस में प्रवेश पर रोक है.

रूसी विदेश मंत्रालय ने कहा कि 29 अमेरिकियों और 61 कनाडाई लोगों पर यात्रा प्रतिबंध, जिनमें दोनों देशों के रक्षा अधिकारी, व्यापारिक नेता और पत्रकार भी शामिल हैं. साथ ही विदेश मंत्रालय ने कहा कि लिस्ट में दोनों देशों की ‘रसोफोबिक’ नीतियों के लिए जिम्मेदार लोगों को शामिल किया गया है. इससे पहले रूस ने फेसबुक और इंस्टाग्राम पर प्रतिबंध लगाया था.

वहीं इस बीच रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अपनी सेना को आदेश दिया है कि वो यूक्रेन के अंतिम गढ़ मारियुपोल पर धावा बोलने के बजाए उसे चारों ओर से घेर ले ताकि वहां परिंदा भी पर न मार सके. रक्षा मंत्री सर्गेइ शोइगु ने कहा कि अजोवस्तान इस्पात प्लांट के अलावा बाकी के शहर को मुक्त कर दिया गया है. रूस के अधिकारी यूक्रेन के उन इलाकों को मुक्त बता रहे हैं, जिन पर उन्होंने कब्जा कर लिया है. इस प्लांट में यूक्रेनी सेना छिपी हुई है. पुतिन ने इसे सफलता बताया है. हालांकि इस प्लांट को यूक्रेन के हाथों में छोड़ने से रूस की मारियुपोल पर पूर्ण विजय घोषित करने की क्षमता खत्म हो गई है.

बंदरगाह शहर मारियुपोल को कब्जे में लेना रूस के लिए सामरिक और सांकेतिक, दोनों रूप से महत्वपूर्ण है. ये रूस और क्रीमियाई प्रायद्वीप को भूमि के जरिए जोड़ देगा और इससे रूसी सेना डोनबास में कहीं भी जा सकती है. शोइगु ने कहा कि इस प्लांट को सुरक्षित रूप से घेर लिया गया है. इससे पहले उन्होंने कहा था कि नागरिकों को लेकर चार बसें शहर से बाहर निकल गई हैं, हजारों और नागरिक शहर में हैं.

(इनपुट- भाषा के साथ)

Similar Posts