राजस्थान: अब खिलाड़ियों को सरकारी नौकरी में आरक्षण, कोच और एथलीटों को पेंशन

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बताया कि अब खिलाड़ियों को सरकारी नौकरियों में भी 2 प्रतिशत आरक्षण मिलेगा. उन्होंने कहा कि सरकार खेलों में राजस्थान सबसे आगे ले जाना चाहती है.

अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं में पदक जीतने वाले एथलीटों की पुरस्कार राशि को भी सरकार ने बढ़ाया. (फाइल फोटो)

राजस्थान सरकार ने खिलाड़ियों को लेकर बड़ा ऐलान कर दिया है. सरकार की तरफ से एथलीटों के लिए सरकारी नौकरियों में 2 प्रतिशत आरक्षण की घोषणा की गई है. वहीं 229 प्रतिभाशाली एथलीटों के लिए आउट-ऑफ-टर्न नौकरियों और कोचों और एथलीटों के लिए पेंशन के प्रावधान की भी घोषणा की गई है. वहीं अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं में पदक जीतने वाले एथलीटों के लिए 3 करोड़ रुपये तक की पुरस्कार राशि को भी सरकार ने बढ़ा दिया है.

सीएम अशोक गहलोत ने यह ऐलान बूंदी के नैनवां सीनियर हायर सेकेंडरी स्कूल में आयोजित ब्लॉक स्तरीय राजीव गांधी ग्रामीण ओलंपिक खेलकूद प्रतियोगिता के समापन समारोह पर की. सीएम गहलोत ने कहा कि इस प्रतियोगिता के माध्यम से हमें ग्रामीण प्रतिभाओं को निखारने का मौका मिला है.

प्रोत्साहन राशि को बढ़ाने का फैसला

सीएम ने राज्य मंत्री अशोक चांदना को धन्यवाद देते हुए कहा कि इस प्रतियोगिता को शुरू करने के लिए उन्होंने विशेष तौर पर सहयोग किया. मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रदेश का नाम रोशन करने वाले खिलाड़ियों को दी जाने वाली प्रोत्साहन राशि को बढ़ाने का फैसला किया है.

सरकारी नौकरी में आरक्षण

सीएम अशोक गहलोत ने बताया कि अब खिलाड़ियों को सरकारी नौकरियों में भी 2 प्रतिशत आरक्षण मिलेगा. उन्होंने कहा कि सरकार खेलों में राजस्थान सबसे आगे ले जाना चाहती है. उन्होंने कहा कि राजीव गांधी ग्रामीण ओलंपिक खेलकूद प्रतियोगिता में इस बार 30 लाख खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया है. उन्होंने कहा कि लेकिन अगली बार यह संख्या 3 गुना हो जाएगी.

ग्रामीण की तरह अब शहरी ओलंपिक खेल

अशोक गहलोत ने कहा कि राज्य में जल्द ही ग्रामीण ओलंपिक की तरह शहरी ओलंपिक खेल भी कराए जाएंगे. उन्होंने कहा कि देश और प्रदेश में सामाजिक सद्भाव बढ़ाने में ऐसे खेल आयोजनों का महत्वपूर्ण योगदान रहेगा. साथ ही, ग्रामीण खेल प्रतिभाएं राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आगे बढ़ सकेंगी. जल्द ही ग्रामीण ओलंपिक की तरह शहरी ओलंपिक खेल भी कराएंगे.

ये भी पढ़ें



राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक एक शानदार पहल

उन्होंने कहा कि इनसे प्रदेश में खेलों का माहौल बनेगा. उन्होंने कहा कि यहां न कोई हार है, न कोई जीत. खेल को खेल की भावना से खेलने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि मेजर ध्यानचन्द स्टेडियम योजना के तहत प्रदेश के प्रत्येक ब्लॉक में चरणबद्ध रूप से खेल स्टेडियम बनाए जाएंगे. गहलोत ने कहा कि राज्य में ग्रामीण क्षेत्रों की खेल प्रतिभाओं को सामने लाने के लिए राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक एक शानदार पहल है. उन्होंने कहा कि ग्रामीण ओलम्पिक में लगभग 30 लाख खिलाड़ियों ने भाग लिया तथा दो लाख से ऊपर टीमें बनी. इसमें 10 लाख महिला खिलाड़ी भी शामिल थी. उन्होंने कहा कि इन खेलों का आयोजन हर साल होगा तथा अगली बार और बड़ी संख्या में खिलाड़ी भाग लेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.