यूपी में कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद अब सभी अस्पतालों में अलर्ट जारी, 10 फीसदी बेड रिजर्व रखने का आदेश

Corona

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में कोरोना के बढ़ते मामलों के साथ ही स्वास्थ्य विभाग ने प्रदेश भर में अलर्ट जारी किया है. राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने सभी सरकारी अस्पतालों और मेडिकल कॉलेजों को पूरी तरह से तैयार रहने को कहा है और इसके लिए हर मेडिकल कॉलेज में डेडिकेटेड कोविड वार्ड (Covid Ward) निर्धारित किया गया है. विभाग ने इसके साथ ही सरकारी अस्पतालों में मामले बढ़ने पर 10 प्रतिशत बेड रिजर्व रखने के भी निर्देश दिए गए हैं.

बुधवार को राज्य में 170 कोरोना संक्रमित मिले और इसके बाद राज्य में एक्टिव केसों की संख्या बढ़कर 856 हो गई है. राज्य में एक्टिव मामलों में लगातार इजाफा हो रहा है. जिसके कारण स्वास्थ्य विभाग ने अस्पतालों के लिए नए आदेश जारी किया है. राज्य में पिछले एक हफ्ते में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा तेजी से बढ़ा है और इसमें सबसे ज्यादा 467 मामले गौतमबुद्ध नगर में हैं. स्वास्थ्य विभाग और चिकित्सा शिक्षा विभाग ने भी नियमित निगरानी शुरू कर दी है. सरकार का कहना है कि कोरोना संक्रमितों को फिलहाल अस्पताल की जरूरत नहीं है और संक्रमित होने पर लोग होम आइसोलेशन में रहकर इलाज कर रहे हैं.

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का दावा-चौथी लहर में नहीं बदलेगा संक्रमण का स्वरुप

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक विशेषज्ञों का कहना है कि चौथी लहर में संक्रमण का स्वरूप नहीं बदलेगा और यह वेरिएंट पिछले वेरिएंट की तुलना में कम खतरनाक होगा. उनका कहना है कि लोगों में विकसित हो चुकी हर्ड इम्यूनिटी के कारण संक्रमण का असर इस बार ज्यादा नहीं दिखेगा. लेकिन इसके लिए सतर्क रहने की जरूरत है. रिपोर्ट के मुताबिक पीजीआई के डायरेक्टर डॉ. आरके धीमान ने बताया कि वैक्सीनेशन के कारण लोगों में हर्ड इम्यूनिटी पाई जा रही है. उनका कहना है कि मास्क, सैनिटाइजर और कोरोना के लिए जारी प्रोटोकॉल का पालन करने से चौथी लहर का प्रकोप कम होगा.

लखनऊ के मेडिकल कॉलेजों में 30 बेड रिजर्व रखने के आदेश

लखनऊ स्थित मेडिकल कॉलेजों में 30 बेड का समर्पित कोविड वार्ड तैयार रखने के निर्देश दिए गए हैं. चिकित्सा महानिदेशक डॉ. एनसी प्रजापति ने कहा कि कोरोना के मामले जरूर बढ़े हैं लेकिन लोगों को अस्पताल की जरूरत नहीं है. फिर भी सभी मेडिकल कॉलेजों में हर स्थिति के लिए पूरी तैयारी है. इसके साथ ही चिकित्सा एवं स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. वेदव्रत सिंह ने कहा कि जरूरत पड़ने पर कोविड रोगियों के लिए 10 प्रतिशत बेड रिजर्व रखे जाएंगे.

Similar Posts