यूपी के डीजीपी और चीफ सेक्रेटरी की देखरेख में होगा ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे, चप्पे-चप्पे में सुरक्षाकर्मी तैनात

Gyanvapi Varanasi Pti

वाराणसी में आज ज्ञानवापी मस्जिद (Gyanvapi Masjid) के लिए सर्वे किया जा रहा है और इसके लिए सुरक्षा के इंतजाम किए हैं. ज्ञानवापी मस्जिद के आसपास सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं और सड़क में बैरिकेटिंग की गई है. ताकि लोग वहां जा सकें. इसके साथ ही आज मस्जिद परिसर में वादी पक्ष और प्रतिवादी को अपने साथ वकीलों को जाने का इजाजत दी गई है. वहां पर मस्जिद कमेटी के लोग भी मौजूद रहेंगे. बताया जा रहा है कि सर्वे के दौरान 36 लोग मौजूद रहेंगे. आज सुबह ही वाराणसी (Varanasi) के पुलिस कमिश्नर ने सुरक्षा के इंतजाम देखे. इसके बाद पुलिस कमिश्नर सतीश गणेश मस्जिद परिसर में पहुंचे.

जानकारी के मुताबिक मस्जिद के आसपास की गलियों में भी लोगों की आवाजाही पर रोक लगी है. काशी विश्वनाथ मंदिर में भी आज श्रद्धालुओं को प्रवेश नहीं मिल रहा है. बताया जा रहा है कि आज दोपहर के बाद ही मंदिर को खोला जाएगा. कोर्ट ने गुरुवार को राज्य के चीफ सेक्रेटरी और डीजीपी को इस मामले की देखरेख करने का आदेश दिया था. क्योंकि पिछले सर्वे में कोर्ट कमिश्नर और उनकी टीम को मुस्लिम पक्ष ने सर्वे करने इजाजत नहीं दी. क्योंकि प्रतिवादी पक्ष ने कोर्ट कमिश्रर पर पक्षपात का आरोप लगाया था. जिसके बाद इस सर्वे को रोक लिया गया था. इस मामले में हिंदू पक्ष के वकील हरिशंकर जैन का कहना कि आज दिवार, तहखाने समेत सभी जगहों की वीडियोग्राफी की जाएगी. उनका कहना कि वहां जो भी प्रतीक मिलेंगे उसकी वीडियोग्राफी की जाएगी. उन्होंने कहा कि सर्वे में कुछ दिन का समय लगेगा और ये कार्य एक दिन में पूरा नहीं हो सकता है.

मस्जिद परिसर में पहुंचे वादी और प्रतिवादी

फिलहाल मस्जिद परिसर में सर्वे टीम पहुंच चुकी है. इसमें वादी और प्रतिवादी पक्ष के कुल 36 लोग मस्जिद में पहुंचे हैं. फिलहाल मस्जिद परिसर के आसपास सुरक्षा के इंतजाम है और किसी को भी वहां जाने नहीं दिया जा रहा है. वहां सिर्फ उन्हीं लोगों को प्रवेश की अनुमति दी जा रही है, जिनके पास हैं या फिर जो जिला प्रशासन के अफसर हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने दखल देने से किया मना

इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को वाराणसी के ज्ञानवापी-शृंगार गौरी परिसर में सर्वेक्षण को रोकने की मांग वाली याचिका पर स्टे देने से मना कर दिया है. कोर्ट ने कहा, वह अब कोई आदेश नहीं दे सकती और कोर्ट ने कहा कि याचिका को सूचीबद्ध किया जा सकता है और इस पर विचार किया जाएगा. असल इस मामले में मुस्लिम पक्ष की ओर से पेश वकील ने प्रधान न्यायाधीश एनवी रमना की अध्यक्षता वाली पीठ को बताया कि वाराणसी में परिसर में सर्वे किया जा रहा है और इस पर स्टे दिया जाए.

Similar Posts