यूपीसीडा ने 200 गांवों के आवागमन का मार्ग किया बंद, किसानों ने दी आंदोलन की चेतावनी

यूपीसीडा ने ट्रांस गंगा सिटी का कार्य तेजी से शुरू कर दिया है. इसको देखते हुए यूपीसीड़ा गंगा के किनारे जाने वाले राजमार्ग जोकि पिपली की तरफ जाता है उसे बंद कर रहा है. इस जानकारी के मिलने के बाद किसानों में भारी आक्रोश व्याप्त है.

यूपीसीडा ने ट्रांस गंगा सिटी का कार्य तेजी से शुरू कर दिया है.

Image Credit source: TV9

उत्तर प्रदेश के उन्नाव में ट्रांस गंगा हाइटेक सिटी बनने की कवायद तेज है. कार्य तेजी से किया जा रहा है. कांट्रेक्शन काम लंबे समय से चल रहा है ट्रांस गंगा सिटी को बनाने के लिए गंगा के किनारे आ रही सैकड़ों किसानों की जमीन को अधिग्रहित किया गया था. लुभावने आश्वासन भी दिए गए थे. जिसमें साफ तौर पर कहा गया था कि कई तरह की सुख सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी, लेकिन अब यहां सुविधाएं तो बहुत दूर की बात है. आवागमन ही रोक देने की बात चल रही हैं. अगर यहां मुख्य मार्ग का अगर आवागमन रोका गया तो लोगों को भारी समस्याओं से गुजरना पड़ेगा.

तकरीबन 20 से ज्यादा गांव के रोजमर्रा की जिंदगी पर असर पड़ा है, क्योंकि यह इलाका कानपुर से सटा हुआ है. जिसके चलते किसान और दूधिया कानपुर में ही बिक्री करते हैं जिस कारण उनको भारी मुनाफा हुआ हैं, अगर यह मार्ग बंद किया गया तो किसानों को भारी नुकसान होगा, इसलिए किसानों ने आंदोलन की चेतावनी दी है.

किसानों व्यापार के लिए इसी मार्ग का करते हैं प्रयोग

यूपीसीडा ने ट्रांस गंगा सिटी का कार्य तेजी से शुरू कर दिया है. इसको देखते हुए गंगा के किनारे राजमार्ग जोकि शंकरपुर की पिपली की तरफ जाता है उसे बंद कर रहे हैं. इस जानकारी के मिलने के बाद किसानों में भारी आक्रोश व्याप्त है. उन्होंने जिलाधिकारी उन्नाव को पत्र देते हुए कहा है अगर यूपीसीड़ा ने गंगा बहराज मार्ग बंद किया तो गांव के लोग प्रदर्शन करेंगे क्योंकि गंगा किनारे सट्टे लगभग 200 गांव के लोग सब्जी बेचने दूध बेचने कानपुर जाते हैं और रोजमर्रा के लिए इसे मार्ग का इस्तेमाल करते हैं.

ये भी पढ़ें



किसानों ने दी आंदोलन की चेतावनी

अगर यह मार्ग बंद कर दिया गया तो बड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा. पहले से भी कई मार्ग अवरोधित है. किसानों ने बताया कि भूमि अधिग्रहण के समय शहरी क्षेत्र की तरह सुविधाएं देने का करार किया गया था, अब यूपीसीडा मुकर रहा है. चारों ओर बाउंड्री वॉल बनाकर गांव वालों को परेशान करने की योजना बन रही है. सतीश शुक्ला ने बताया कि शंकरपुर सरायं का मार्ग यदि बंद किया गया तो आंदोलन किया जायेगा. किसी भी तरह मार्ग बंद होने नहीं दिया जाएगा. पूर्व बार अध्यक्ष दीप नारायण त्रिवेदी, अतुल त्रिवेदी, पुनीत अवस्थी, बाबूलाल, श्रीनारायण आदि ने डीएम को पत्र देकर मार्ग खोले जाने की मांग की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.