मैनपुरी में टीले की खुदाई में किसान को मिले 39 तांबे के हथियार, पुरातत्व विभाग ने 4000 साल पुराने होने की जताई आशंका

Untitled

उत्तर प्रदेश(Uttar Pradesh) के मैनपुरी में एक खेत के नीचे से पुराने तांबे के हथियार बरामद किए गए हैं. बताया जा रहा है कि ये हथियार करीब चार हजार साल पुराने हैं. मामलाजिले की तहसील कुरावली क्षेत्र के गणेशपुर का है, जहां किसान बहादुर सिंह फौजी खेत में टीले को जेसीबी से समतल करा रहे थे. इसी दौरान वहां फौजी को मिट्टी के नीचे तांबे की तलवारों सहित कई हथियार (Copper Weapons Found) मिले. इस मामले के खुलासे के बाद स्थानीय पुलिस और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) हरकत में आया और जगह को सील कर दिया गया. बरामद हथियारों की संख्या करीब 39 है.

हथियारों को सोने से बनी कीमती वस्तुएं समझकर घर ले गया किसान

बताया जा रहा है कि किसान बहादुर सिंह फौजी को खुदाई के दौरान जब ये हथियार मिले तो वह उन्हें सोने और चांदी से बनी कीमती वस्तुएं समझकर घर ले गया. इसके बाद जब इस घटना की जानकारी स्थानीय लोगों को मिली तो उन्होंने पुलिस को सूचित किया. इसके बाद पुलिस ने मामले की जानकी भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग को दी. विशेषज्ञों का कहना है कि बरामद किए गए तांबे के हथियार 4000 साल पुराने हो सकते हैं और इनका संबंध द्वापर युग से है. सभी हथियारों पर जंग लगा हुआ है.

टीले से बरामद किए गए तांबे के हथियारों में-

  • तलवारें
  • भाला
  • कांता
  • त्रिशूल
  • और अन्य अस्त्र शामिल हैं.

गिनती करने पर तांबे के 39 हथियार पाए गए, जिन्हें अब पुरातत्व विभाग को सौंप दिया गया है. आगरा सर्किल के अधीक्षण पुरातत्वविद डॉ. राजकुमार पटेल ने मीडिया से कहा कि यह तमाम तांबे के हथियार 1800 ईसा पूर्व के लगते हैं. उन्होंने रहा कि यूपी में एटा, मैनपुरी, आगरा और गंगा बेल्ट इस तरह की ताम्रनिधियों की संस्कृति वाले क्षेत्र रहे हैं. पुरातत्व विभाग की टीम अब एक बार और जगह का निरीक्षण करने जाएगी.

युद्ध या शिकार के लिए इस्तेमाल होते होंगे ये हथियार- इतिहासकार

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) के इतिहासकार और पुरातत्वविद् प्रोफेसर मानवेंद्र पुंधीर ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया है कि ऐसा लगता है कि ये हथियार या तो उन बड़े समूहों के योद्धाओं के हैं, जिन्होंने युद्ध किया था, या फिर इन हथियारों को शिकार के लिए इस्तेमाल किया जाता होगा.निष्कर्ष बताते हैं कि तांबे के युग के दौरान युद्ध आम था, लेकिन इस पर और भी शोध करने की जरूरत है.

Similar Posts