मुस्लिम-ईसाई धर्म अपनाने वाले दलितों की कैसी है स्थिति? पता लगाएगी सरकार

कमेटी केवल उन्ही पर सर्वे करेगी जिन्होंने हिंदू धर्म, बौध्द धर्म और सिख धर्म से दूसरे धर्म को अपनाया है.

Ministry Of Minority Affairs

केंद्र सरकार जल्द ही एक कमीशन गठित करने जा रही है जो कि कंवर्टेड दलित और शेड्यूल कास्ट के लोगों पर सर्वे करेगी. दरअसल यह कमेटी केवल उन्ही पर सर्वे करेगी जिन्होंने हिंदू धर्म, बौध्द धर्म और सिख धर्म से दूसरे धर्म को अपनाया है. कमीशन इनकी सोशल, इकोनोमिक और एजुकेशनल स्टेटस के बारे में पता करेगी. इस कमीशन को गठित करने की बात केंद्र सरकार से लगातार जारी है. जल्द ही केंद्र इसे मंजूरी दे सकती है.

इंडियन एक्सप्रेस के सूत्रों के मुताबिक अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय और कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग ने इस पहल को मंजूरी दे दी है. इस कमीशन का प्रपोजल फिलहाल अन्य मंत्रालयों में संज्ञान के लिए भेजा गया है. इस कमिशन का गठन उन याचिकाओं पर एक अहम कदम माना जा रहा है जो कि सुप्रीम कोर्ट में कंवर्टेड दलितों को आरक्षण के लाभ के लिए लगी हुई हैं. यह याचिकाएं अधिकांशतः उन लोगों के लिए हैं जिन्होंने कंवर्ट होने के बाद इस्लाम और ईसाई धर्म अपनाया है.

दरअसल आर्टिकल 341 के तहत यह बताया गया है कि हिंदू, सिख और बौद्ध धर्म के अलावा किसी भी धर्म को शेड्यूल कास्ट में क्लासीफाइड नहीं किया जाएगा. इस कानून के मुताबिक पहले केवल हिंदुओं में शेड्यूल कास्ट कैटेगरी को अनुमति थी, इसके बाद इसमें संशोधन करके सिख और बौद्ध धर्म को जोड़ा गया.

1 साल में जमा करनी होगी रिपोर्ट

इस कमीशन में तीन या चार सदस्य हो सकते हैं. कमीशन के चेयरमैन की रैंक एक केंद्रीय कैबिनेट मंत्री के बराबर होगी. इस कमीशन के पास करीब 1 साल का वक्त होगा अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपने की. यह कमीशन कंवर्टेड दलितों की स्थिति की समीक्षा तो करेगी ही. इसके अलावा यह कमेटी शेड्यूल में कास्ट में अन्य जातियों को जोड़ने के प्रभाव पर भी समीक्षा करेगी.

ये भी पढ़ें



ST और OBC पर प्रतिबंध नहीं

यह मुद्दा केवल शेड्यूल कास्ट तक ही सीमित है. क्योंकि दूसरे धर्म में जाने पर एसटी यानी शेड्यूल ट्राइब और ओबीसी पर कोई प्रतिबंध नहीं है. मंडल कमीशन की रिपोर्ट के मुताबिक डीओपीटी वेबसाइट पर लिखा है कि, ‘एक शेड्यूल ट्राइब के व्यक्ति के अधिकार उसके धर्म पर निर्भर नहीं करते.’कई मुस्लिम और ईसाई धर्म को मानने वाले लोग ओबीसी स्टेट में आते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.