माजरा के किसानों ने एम्स के लिए अपनी जमीन देने व सरकार की इच्छानुसार लेटर आफ इंटेट पर हस्ताक्षर कर दिये है व स्वास्थ्य विभाग ने माजरा की जमीन पर बनने वाले एम्स का नक्शा भी पास कर दिया है तो फिर किसानों की जमीन लेने के लिए रजिस्ट्रीया करवाने की प्रक्रिया में अनावश्यक देरी क्यों की जा रही है? विद्रोही

24 जून 2022
स्वयंसेवी संस्था ग्रामीण भारत के अध्यक्ष एवं हरियाणा प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता वेदप्रकाश विद्रोही ने मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर से पूछा जब कि माजरा के किसानों ने एम्स के लिए अपनी जमीन देने व सरकार की इच्छानुसार लेटर आफ इंटेट पर हस्ताक्षर कर दिये है व स्वास्थ्य विभाग ने माजरा की जमीन पर बनने वाले एम्स का नक्शा भी पास कर दिया है तो फिर किसानों की जमीन लेने के लिए रजिस्ट्रीया करवाने की प्रक्रिया में अनावश्यक देरी क्यों की जा रही है? विद्रोही ने कहा कि सरकार के मंत्रीयों-संतरियों ने मई माह में जमीन की रजिस्ट्री एम्स के नाम पर करवाने के मीडिया में बयान दागे थे, लेकिन मई का महीना भी चला गया और अब जून माह भी खत्म होने की ओर है, लेकिन रजिस्ट्रीया अभी तक प्रारंभ नही हुई है। सरकार साफ-साफ क्यों नही बताती कि माजरा के किसानों की जमीन अब एम्स के नाम से खरीदने में समस्या क्या है? सरकार सच बताने व एम्स निर्माण का बिन्दूवाईज रोडमैप जारी करने से क्यों कतरा रही है?
विद्रोही ने मुख्यमंत्री से यह भी सवाल किया कि माजरा में प्रस्तावित एम्स के लिए ग्राम पंचायत की 75 एकड़ जमीन को हरियाणा पंचायत विभाग एम्स के नाम पर स्थानातंरित क्यों नही कर रहा? माजरा ग्राम पंचायत की 75 एकड़ जमीन पिछले 9 माह से एम्स के नाम पर स्थानातंरित करने में क्या परेशानी हो रही है? जब सरकार का पंचायत विभाग भी पंचायती जमीन को एम्स के नाम पर ट्रांसफर करने में इतनी अनावश्यक देरी कर रहा है तो फिर यह क्यों नही कहा जा सकता कि दक्षिणी हरियाणा-अहीरवाल में एम्स बनाने के प्रति मुख्यंमत्री मनोहरलाल खटटर व भाजपा सरकार ईमानदार व गंभीर नही है। विद्रोही ने कहा कि अहीरवाल के विकास कार्यो के प्रति पिछले 8 सालों से हर विकास प्रोजेक्ट के साथ सौतेला, भेदभावपूर्ण व्यवहार क्यों हो रहा है? क्षेत्र की जनता के बार-बार आग्रह करने पर भी 8 साल से अहीरवाल के आधे-अधूरे विकास प्रोजेक्ट पूरे क्यों नही हो रहे? एम्स जैसे स्वास्थ्य के उच्च संस्थान के निर्माण के प्रति मुख्यमंत्री खटटर जी का इतना ठंडा रवैया क्यों है? मुख्यमंत्री खट्टर जी केन्द्रीय मंत्री राव इन्द्रजीत सिंह के साथ राजनीतिक प्रतिद्धंता का दंड अहीरवाल को क्यों दे रहे है? एम्स के प्रति मुख्यमंत्री का ठंडा, अपेक्षापूर्ण रवैया किसी भी तरह उचित नही है।
विद्रोही ने मुख्यमंत्री से मांग की माजरा के किसानों की जमीन की रजिस्ट्रीया एम्स के नाम अविलम्ब शुरू करवाई जाये व एक सप्ताह के अंदर ग्राम पंचायत की जमीन एम्स के नाम पर ट्रांसफर करने का मुख्यमंत्री पंचायत विभाग के निदेशक को आदेश दे। वहीं एम्स निर्माण के हर बिन्दू का सरकार रोडमैप जारी करके उस कार्य को एक निश्चित तारीख तक हर हालत में पूरा करने की जवाबदेही अलग-अलग अधिकारियों को दे और जो अधिकारी समय पर अपना कार्य पूरा नही करवा सके, उसे दंडित किया जाये।

Similar Posts