महारानी की मौत के बाद दक्षिण अफ्रीका ने वापस मांगा अपना 500 कैरेट का ग्रेट स्टार डायमंड

‘ग्रेट स्टार ऑफ अफ्रीका’ की वापसी के लिए 6,000 से ज्यादा लोगों ने एक याचिका पर हस्ताक्षर किए हैं. इस याचिका में कहा गया है कि अफ्रीका के ग्रेट स्टार को तुरंत वापस किया जाए.

दक्षिण अफ्रीका ने की ब्रिटेन से ‘ग्रेट स्टार ऑफ अफ्रीका’ की वापसी की मांग.

Image Credit source: PTI

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ के निधन के बाद यूके से कोहिनूर सहित सभी तरह के डायमंड (हीरे) की मांग उठने लगी है. अब दक्षिण अफ्रीका ने ब्रिटेन से ‘ग्रेट स्टार ऑफ अफ्रीका’ की वापसी की मांग की है. इस कीमती हीरे, जिसे कलिनन या अफ्रीका का ग्रेट स्टार कहा जाता है. दावा है कि इस हीरे को एक बडे रत्न से काटा गया है, जिसकी खोज साल 1905 में दक्षिण अफ्रीका में खनन में की गई थी. दक्षिण अफ्रीका के औपनिवेशिक अधिकारियों ने इस कीमती हीरे को ब्रिटिश रॉयल फैमिली को सौंप दिया था. और अब ये कीमती हीरा महारानी एलिजाबेथ की शाही छड़ी पर लगा हुआ है.

महारानी की मृत्यु के बाद से ब्रिटेन से अफ्रीका के इस ग्रेट स्टार और अन्य कीमती हीरों की वापसी की मांग तेज होने लगी है. कई दक्षिण अफ्रीकी नागरिकों ने ब्रिटेन द्वारा कीमती गहनों को अपने कब्जे में लिए जाने को नाजायज बताया है. क्वीन के निधन के बाद उपनिवेशवाद को लेकर एक बहस सी छिड़ी हुई है. दक्षिण अफ्रीकी मीडिया इस हीरे के स्वामित्व को लेकर बहस पर उतर आया है. साथ ही साथ मुआवजे का भुगतान करने की मांग भी कर रहा है. एक एक्टिविस्ट थंडक्सोलो सबेलो ने लोकल मीडिया से कहा, ‘कलिनन डायमंड को तत्काल प्रभाव से दक्षिण अफ्रीका लौटाया जाना चाहिए.’

‘ग्रेट स्टार’ को तुरंत वापस करने की मांग

वहीं, ‘ग्रेट स्टार ऑफ अफ्रीका’ की वापसी के लिए 6,000 से ज्यादा लोगों ने एक याचिका पर हस्ताक्षर किए हैं. इस याचिका में कहा गया है कि अफ्रीका के ग्रेट स्टार को तुरंत वापस किया जाए. इसमें यह भी कहा गया है कि दक्षिण अफ्रीकी म्यूजियम में इस हीरे को प्रदर्शन के लिए रखा जाए. दक्षिण अफ्रीकी संसद के एक सदस्य वुयोलवेथु जुंगुला ने अफ्रीकी मूल के नागरिकों से अपील की है कि वे ब्रिटेन द्वारा किए गए सभी नुकसान के लिए भरपाई की मांग करें. इसके अलावा, ब्रिटेन द्वारा चुराए गए सभी कीमती चीजों जैसे सोने और हीरों की वापसी की मांग करें.

‘कोहिनूर’ की वापसी की भी उठी मांग

बता दें कि भारतीय नागरिकों ने भी ब्रिटेन से कोहिनूर हीरे की वापसी की मांग की है. कोहिनूर महारानी के क्राउन पर लगा एक कीमती हीरा है. कोहिनूर एक बड़ा और बेरंग हीरा है, जो 14वीं सदी की शुरुआत में दक्षिण भारत में मिला था. औपनिवेशिक कालखंड में यह ब्रिटेन के हाथ लग गया था और अब ऐतिहासिक स्वामित्व विवाद का विषय बना हुआ है, जिस पर भारत समेत कम से कम चार देश दावा करते हैं. भारत सरकार कई बार कोहिनूर को वापस करने की मांग करती रही है. सबसे पहले इस संबंध में मांग 1947 में की गई थी. हालांकि ब्रिटिश सरकार भारत के कोहिनूर के दावों को खारिज करती रही है.

ये भी पढ़ें



(एजेंसी इनपुट के साथ)

Leave a Reply

Your email address will not be published.