भीषण गर्मी में जलसंकट का डबल अटैक! पानी के लिए तरसे ग्रामीण; सरकार को जगाने के लिए कर रहे भजन-कीर्तन

Water Crisis

एक तरफ आसमान से बरसती आग तो दूसरी तरफ सूखती धरती. इस भीषण गर्मी और भीषण जल संकट (Water Crisis) में आम आदमी का जीना मुहाल कर दिया है. वहीं, इन सबमें सबसे ज्यादा परेशानी ग्रामीण क्षेत्रों में सामने आ रही है. जहां इस भीषण गर्मी में जल संकट ग्रामीणों के सामने खड़ा हो चुका है. ऐसे में मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में जबलपुर जिले के ग्रामीण इलाके बरगी में भीषण जल संकट से जूझ रहे ग्रामीण अब ईश्वर से प्रार्थना कर भजन कीर्तन के साथ रामायण पाठ करने में जुट गए हैं. क्योंकि उन्हें अब सरकार और प्रशासन से कोई उम्मीद नजर नहीं आ रही है.

दरअसल, जबलपुर जिले की बरगी विधानसभा के शहपुरा कस्बे और जबलपुर जिले में आने वाले सैकड़ो गांव के ग्रामीण पीने के पानी के लिए कई सालों से जद्दोजहद कर रहें हैं. बरगी विधानसभा के चिरापौंडी, नवीन देवरी, दुर्गा नगर, तिन्हेंटा, उर्रम, नीची, रायचोर नकटिया समेंत ऐसे सैकड़ों गांव है जहां पर ग्रामीण कुएं का गंदा कीचड़ भरा पानी पीने के लिए मजबूर है. इतना ही नहीं बीते 30 से 35 साल पहले बने बरगी बांध के चलते विस्थापित होकर रहने वाले तीन जिलों के ग्रामीणों को इतने साल बीत जाने के बाद भी पानी सहित अन्य मूलभूत सुविधाओं का लाभ नही मिल पा रहा है.

ग्रामीण गांव के बाहर बने देवालय पर कर रहे भजन कीर्तन

इस दौरान ग्रामीणों का कहना है कि हम भगवान के साथ स्थानीय जिला प्रशासन को जगाने के लिए प्रार्थना कर रहे है. ताकि हम विस्थापितों को पीने के पानी की समस्या से निजात मिल सके. ऐसे में बरगी इलाके के अलावा लगभग हर एक गांव के हालात लगभग एक जैसे बने हुए हैं. जहां एक कुएं के भरोसे 500 से 600 परिवार निर्भर है. उसी कुए का पानी कई गांवों के लोगों की प्यास बुझाता है.

MLA का आरोप- सरकार नहीं दे रही इस ओर ध्यान

उधर, बरगी विधानसभा क्षेत्र के विधायक संजय यादव का कहना है कि बरगी विधानसभा क्षेत्र में जल संकट की समस्या आज की नहीं है, बल्कि पिछले कई सालों से ग्रामीण जल संकट से जूझ रहे हैं. ऐसे में तमाम प्रयासों के बावजूद भी सरकार ने अब तक इस ओर ध्यान नहीं दिया. इधर जिला कलेक्टर इलैया राजा टी का कहना है कि जिन ग्रामीण इलाकों में जल संकट है. वहां पर नहरों और टैंकों के जरिए पानी पहुंचाने की व्यवस्था की जा रही है. उन्होंने बताया कि जहां लोगों को पानी की समस्या आ रही है. वहां, जिले के हर ग्रामीण क्षेत्र के गांव में पीएचई विभाग एवं ग्राम पंचायत के लोग उनको दूर करने में जुटे हुए है.

Similar Posts