बच्चा चोरी की अफवाह सुन कर्तव्य ने किया कांड, सोचा पापा किडनैपिंग सुन डर जाएंगे, लेकिन…

एक बच्चे ने शोर मचा दिया कि खातीखाना में बच्चा चोर गिरोह के लोगों ने उसके अपहरण का प्रयास किया. उसे टैंपू में सवार बदमाश लेकर भाग रहे थे, लेकिन वह उनके चंगुल से छूट कर भाग निकला. इस सूचना पर आनन फानन में पुलिस ने जिले भर में नाकाबंदी कर दी. घटना स्थल के सीसीटीवी खंगाले, लेकिन मामला फर्जी निकला.

बच्चा चोरी की अफवाह सुन कर्तव्य ने किया कांड

Image Credit source: TV9 भारतवर्ष

उत्तर प्रदेश के हाथरस में एक बच्चे के अपहरण के प्रयास की सूचना से हड़कंप मच गया. एक बच्चे ने शोर मचा दिया कि खातीखाना में बच्चा चोर गिरोह के लोगों ने उसके अपहरण का प्रयास किया. उसे टैंपू में सवार बदमाश लेकर भाग रहे थे, लेकिन वह उनके चंगुल से छूट कर भाग निकला. इस सूचना पर आनन फानन में पुलिस ने जिले भर में नाकाबंदी कर दी. घटना स्थल के सीसीटीवी खंगाले, लेकिन मामला फर्जी निकला. बच्चे से पूछताछ में पता चला कि वह ट्यूशन से निकल कर वह मेला देखने चला गया था. उसे डर था कि देर से घर जाने पर डांट पड़ेगी. इससे बचने के लिए उसने खुद के अपहरण की झूठी कहानी रच दी.

मामला सदर कोतवाली क्षेत्र के खातीखाना में गुरुवार की देर शाम का है. यहां एक 12 वर्षीय बच्चे कर्तव्य वार्ष्णेय ने शोर मचा दिया कि कुछ लोग उसे टैंपू में डालकर ले जाने का प्रयास कर रहे थे. मुरसान गेट के पास वह मौका देखकर उनके चंगुल से छूट कर भाग निकला. शोर मचाने पर काफी लोग वहां एकत्रित हो गए. सूचना मिलने पर पहुंचे बच्चे के पिता ने तुरंत थाने पहुंच कर पुलिस में शिकायत दे दी. इस सूचना पर पुलिस के भी हाथ पांव फूल गए. आनन फानन में वायरलेस पर नाकाबंदी के आदेश कर दिए गए. पुलिस की एक टीम को सबूत जुटाने के लिए मौके पर भेजा गया. इस टीम ने जब वहां लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगालनी शुरू की तो पता चला कि यह एक झूठी कहानी है. इसके बाद पुलिस ने बच्चे से अकेले में बात की. इसमें बच्चे ने पूरी सच्चाई उगल दी. बताया कि उसने पिता की डांट से बचने के लिए ऐसा किया है.

बच्चा चोर गिरोह की अफवाह को देखकर बनाया प्लान

पुलिस की पूछताछ में बच्चे ने बताया कि यह आइडिया उसे टीवी देखकर आया. दरअसल इन दिनों बच्चा चोर गिरोह की अफवाह खूब देखी जा रही है. इसे देखकर उसने भी सोचा कि अपने अपहरण की झूठी कहानी बना दी जाए तो घर में उसे डांट पड़ने के बजाय सभी की सिम्पैथी मिलेगी. कोई उससे यह भी नहीं पूछेगा कि वह इतनी देर तक कहां था.

पुलिस तक मामला जाने की नहीं थी उम्मीद

बच्चे ने बताया कि उसे उम्मीद ही नहीं थी कि मामला पुलिस तक पहुंचेगा. वह मान कर चल रहा था कि उसके माता पिता उसे सुरक्षित देखकर गले से लगा लेंगे और चुपचाप उसे लेकर घर चले जाएंगे. लेकिन यहां उल्टा हो गया. उसके पिता ने घटना स्थल से उसे घर ले जाने के बजाय सीधे उसे लेकर थाने पहुंच गए. बच्चे बताया कि थाने आने के बाद वह और डर गया था.

ये भी पढ़ें



ट्यूशन से सीधा घर आने के थे निर्देश

बच्चे ने बताया कि उसके पिता ने साफ तौर निर्देश दे रखा है कि उसे ट्यूशन से निकल कर सीधे घर आना है. यहां तक कि उसे बीच में कहीं रुकने की भी मनाही है. बच्चे ने बताया कि वह अपने दोस्त की बात में आकर ट्यूशन से निकलकर मेला चला गया. वहां से वापस लौटने में उसे देर हो गई तो उसे डर हो गया कि घर जाकर निश्चित रूप से डांट पड़ेगी. इस डांट से बचने के लिए उसे कुछ नहीं सुझा तो यह कहानी बना दी. पुलिस ने बच्चे की निशानदेही पर उसकी साइकिल और स्कूल बैग बरामद कर परिजनों को सौंप दिया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.