फ्लाइट सर्विस में जोरदार उछाल: 5 गुना बढ़ी हवाई यात्रियों की तादाद, मई में 1.20 करोड़ लोगों ने किया सफर

Flight Service

घरेलू हवाई सेवा में जोरदार उछाल देखने को मिला है. कोविड का दौर थमने के बाद देश में एयर पैसेंजर ट्रैफिक में बड़ी वृद्धि देखी जा रही है. केवल मई महीने में देश की एयरलाइन कंपनियों ने 1.20 करोड़ यात्रियों को फ्लाइट सर्विस दी है. यह आंकड़ा देश के लोकल रूट का है. एक साल का हिसाब देखें तो घरेलू हवाई यात्रियों की तादाद में तकरीबन 5 गुना तक की बढ़ोतरी आई है. यह संख्या मई 2021 से मई 2022 तक की है. डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) के एक आंकड़े में यह बात सामने आई है. हवाई यात्रियों की संख्या का यह आंकड़ा बुधवार को जारी किया गया.

डीजीसीए का आंकड़ा कहता है कि मई 2021 में घरेलू हवाई यात्रियों की संख्या सिर्फ 21 लाख थी. दूसरी ओर, मई 2022 में यह संख्या बढ़कर 1.20 करोड़ हो गई. पिछले साल कोरोना महामारी के चलते हवाई सेवाओं पर प्रतिकूल असर पड़ा था. पिछले साल के अंत से इसमें सुधार देखा जा रहा है. कोरोना संक्रमण ढीला पड़ने के बाद हवाई सफर में तेजी आई है. इंडिगो की फ्लाइट में सबसे अधिक 70 लाख लोगों ने सफर किया है. कुल मार्केट शेयर में इंडिगो की हिस्सेदारी 57.9 परसेंट रही. इसके बाद मुंबई की एयरलाइन कंपनी गो फर्स्ट का स्थान रहा जिसने 12.76 लाख लोगों को हवाई यात्रा कराई. पूरे घरेलू ट्रैफिक में गो फर्स्ट की हिस्सेदारी 10.8 प्रतिशत रही.

हवाई सेवा में ये कंपनी अव्वल

देश के दो फुल सर्विस कैरियर एयर इंडिया और विस्तारा के हवाई यात्रियों में भी बड़ी बढ़त देखी गई है. दोनों कंपनियां टाटा ग्रुप का हिस्सा हैं. एयर इंडिया ने 8.23 लाख, तो विस्तारा ने 9.83 लाख हवाई यात्रियों को सेवा दी. यह आंकड़ा मई महीने का है. एयर एशिया ने घरेलू रूट पर मई महीने में 6.86 लाख यात्रियों को हवाई सफर कराया. स्पाइसजेट ने सबसे अधिक क्षमता के साथ हवाई सेवा दी जिसका लोड फैक्टर या सीट फैक्टर 89.1 परसेंट रहा. दूसरे स्थान पर गो फर्स्ट का नाम है जिसका लोड फैक्टर 86.5 परसेंट देखा गया है. लोड फैक्टर से ही पता चलता है कि किसी एयरलाइन कंपनी की क्षमता का कितना इस्तेमाल हुआ. इससे यह भी पता चलता है कि फ्लाइट में किस हद तक सीटें भरीं.

सबसे टाइम पर चली ये एयरलाइन कंपनी

डीजीसीए की रिपोर्ट में ऑन-टाइम परफॉर्मेंस (ओटीपी) का भी आंकड़ा दिया है. इससे पता चलता है कि किस एयरलाइन कंपनियों के विमान समय पर चले या फ्लाइट सर्विस में देरी देखी गई. एयर एशिया का ओटीपी सबसे अधिक 90.8 परसेंट रहा. यानी एयर एशिया की अधिक से अधिक फ्लाइट समय पर उड़ान भरी. एयर एशिया का ओटीपी देश के प्रमुख चार एयरपोर्ट पर देखा गया है. ओटीपी में दूसरा स्थान विस्तारा का रहा जिसकी 87.5 फ्लाइट समय पर रहीं. डीजीसीए हर महीने घरेलू एयरलाइंस के लिए ओटीपी का आंकड़ा जारी करता है जिसमें दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु और हैदराबाद के एयरपोर्ट पर उड़ानों के समय को देखा जाता है.

Similar Posts