फेक निकली ‘सिर तन से जुदा’ करने की धमकी, डॉक्टर ने इसलिए खुद रची थी साजिश

death threat to doctor in ghaziabad

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में जिस डॉक्टर ने पुलिस से सिर धड़ से अलग किए जाने की धमकी मिलने की शिकायत की थी. वो फर्जी निकली है. दरअसल डॉक्टर ने पुलिस से शिकायत की थी कि उसे सिर धड़ से अलग किए जाने की धमकी मिली है. जिसके बाद से वो और उसका पूरा परिवार डरा हुआ है. ये शिकायत मिलने के बाद ही पुलिस ने जांच शुरू कर दी थी. अब पुलिस की जांच में सामने आया है कि डॉक्टर अरविंद कुमार वत्स ने लोकप्रियता पाने के लिए खुद ही ये पूरी साजिश रची थी.

पूरा मामला गाजियाबाद के थाना सिहानी गेट क्षेत्र की अंबेडकर नगर कॉलोनी का है. कॉलोनी में डॉक्टर अरविंद वत्स का ही सिर्फ क्लीनिक है. डॉक्टर ने पुलिस से शिकायत की थी कि उन्हे कई बार अमेरिका के नंबर से कॉल आई. कॉलर ने उनसे कहा कि अगर तुमने हिंदू संगठन का साथ नहीं छोड़ा तो सिर धड़ से अलग कर दिया जाएगा. जिसके बाद पुलिस ने जांच में जुट गई.

सस्ती लोकप्रियता पाने के लिए रची खुद ही साजिश

गाजियाबाद एसपी सिटी निपुण अग्रवाल ने बताया फेमस होने के लिए अरविंद कुमार वत्स ने ही पूरी साजिश रची थी. जिस नंबर से कॉल आई थी, वह बिहार के अनीस कुमार महतो नामक व्यक्ति का था. अनीस कुमार महतो को अस्थमा की बीमारी थी. वो डॉक्टर से सुझाव और इलाज के लिए इंटरनेट कॉलिंग के जरिए बातचीत और चैट करते थे. जिसके बाद डॉक्टर ने अनीस से पूछा कि ये जिस नंबर से तुम कॉल करते हो ये कैसा नंबर है. जिसके बाद अनीस कुमार महतो ने बताया कि मैंने इंटरनेट कॉलिंग बना रखा है. उससे आपको कॉल करता हूं.

जिसके बाद डॉक्टर अरविंद ने पुलिस को यही नंबर देते हुए कहा कि उन्हे इसी नंबर से कॉल आई है और सिर तन से जुदा करने की धमकी मिली है. जब अनीस कुमार महतो से इस पूरे मामले में पुलिस ने पूछताछ कि तो सच्चाई से उठा पर्दा उठा गया और पता चला कि सस्ती लोकप्रियता पाने के लिए डॉक्टर ने खुद ही ये साजिश रची है.

मरीज के नंबर को बताया अमेरिका का नंबर

गाजियाबाद एसपी सिटी प्रथम निपुण अग्रवाल ने कहा कि डॉक्टर को जिस नंबर से कॉल आ रही थी वो युवक अनीस कुमार महतो का था. उसने पुलिस को बताया कि वो अस्थमा का मरीज है. वो डॉक्टर से इंटरनेट कॉल और मैसेज के जरिए ही बात करता था और डॉक्टर की फीस ऑनलाइन कर दिया करता था. पुलिस की दी जानकारी में उसने बताया कि एक दिन डॉक्टर ने मुझसे जानकारी ली की यह किस तरह का नंबर है जिससे कॉल आती है इसके बाद मैंने बताया इंटरनेट कॉलिंग के जरिए मैंने आपको फोन किया था.

डॉक्टर पर होगा केस दर्ज

उसने बताया कि इस बारे में जब मुझे जानकारी मिली तो पुलिस को सारी घटना बताई. वहीं पुलिस ने कहा है कि डॉक्टर के खिसाफ झूठी सूचना देने और भ्रमाक खबर फैलाने के मामले में मुकदमा पंजीकृत करके कानूनी कार्रवाई की जाएगी.