फिल्म ठग्स ऑफ हिंदुस्तान में जाति विशेष को अपमानित करने का मामला, अभिनेता आमिर खान और निर्माता-निर्देशक ने जौनपुर कोर्ट को भेजा जवाब

Jaunpur

फिल्म ठग्स ऑफ हिंदुस्तान (Thugs of Hindustan) में जाति विशेष को अपमानित करने के मामले में आरोपित फ़िल्म अभिनेता आमिर खान (Aamir Khan), फ़िल्म के निर्माता और निर्देशक ने गुरुवार को अपने अधिवक्ताओं के माध्यम से जौनपुर कोर्ट (Jaunpur) में लिखित जवाब पेश किया है. हालांकि अपर सत्र न्यायाधीश प्रथम ने मजिस्ट्रेट कोर्ट से पत्रावली तलब करते हुए इस मामले में अगली सुनवाई के लिए 20 मई की तारीख तय की है. आपको बता दें कि वादी की निगरानी याचिका पर जौनपुर की कोर्ट ने फ़िल्म अभिनेता आमिर खान समेत फ़िल्म के निर्माता और निर्देशक को नोटिस जारी किया था.

दरअसल, जौनपुर के लाइन बाजार थाना क्षेत्र के हरईपुर निवासी वादी हंसराज ने अपने अधिवक्ता हिमांशु श्रीवास्तव के मध्याम से फ़िल्म ठग्स ऑफ हिंदुस्तान के अभिनेता, निर्माता और निर्देशक के खिलाफ परिवाद दायर किया था. वादी का आरोप था कि फ़िल्म के ट्रेलर में मल्लाह समाज को फिरंगी कहकर अपमानित किया गया. लोकप्रियता पाने के लिए निषाद समाज को फ़िल्म में ठग और फिरंगी बताया गया. आरोप है कि इंटरनेट पर 30 अक्टूबर 2018 को इसे देखने के बाद वादी और गवाहों की भावनाएं आहत हुईं. जिसके बाद वादी ने कोर्ट में परिवाद दायर किया.

मजिस्ट्रेट कोर्ट ने परिवाद किया था अस्वीकृत

आपको बता दें कि वादी द्वारा परिवाद दायर किए जाने के बाद मजिस्ट्रेट कोर्ट ने ये कहते हुए परिवार अस्वीकृत कर दिया था. किसी भी फ़िल्म की घटनाएं एवं पात्र काल्पनिक होते हैं. जिसका जिक्र फ़िल्म की शुरुआत में ही होता है. फ़िल्म किसी की भावना को आहत करने या ठेस पहुंचाने के लिए नहीं बनाई जाती हैं. बल्कि फ़िल्म मनोरंजन के लिए बनाई जाती हैं.

दलील के बाद कोर्ट ने किया स्वीकृत

मजिस्ट्रेट कोर्ट द्वारा परिवाद अस्वीकृत किए जाने के बाद वादी के अधिवक्ता हिमांशु श्रीवास्तव और उपेंद्र विक्रम सिंह ने जिला जज कोर्ट में पुनर्निरीक्षण याचिका की बहस के दौरान कोर्ट में यह दलील देते हुए कहा था कि तलब स्तर पर प्रथमदृष्टया ही साक्ष्य का निर्धारण किया जाता है. परिवाद अस्वीकृत करने के लिए कोई विशेष वजह और सम्पूर्ण साक्ष्य का आभाव अवश्य होना चाहिए. इसके बाद कोर्ट ने पुनर्निरीक्षण याचिका स्वीकृत करते हुए आरोपियों को नोटिस जारी किया था.

आरोपियों के अधिवक्ताओं ने पेश होकर दिया जवाब

फ़िल्म ठग्स ऑफ हिंदुस्तान के अभिनेता आमिर खान, निर्देशक विजय कृष्ण आचार्य और निर्माता आदित्य चोपड़ा ने अपने अधिवक्ता प्रतीक पाण्डेय और उज्ज्वल सत्संगी के माध्यम से गुरुवार को जौनपुर कोर्ट में वकालतनामा लगाकर लिखित जवाब दाखिल किया. कोर्ट में आरोपियों के अधिवक्ता द्वारा लिखित जवाब पेश करते हुए दलील दी गई कि यह फ़िल्म एक उपन्यास पर आधारित है. इसके सभी पात्र काल्पनिक हैं. इस फ़िल्म के माध्यम से किसी की भावना आहत करने की उनकी कोई मंशा नही थी. इसलिए कोर्ट से पुनर्निरीक्षण याचिका को निरस्त करते हुए वादी पर हर्जाना लगाने की मांग की. हालांकि अपर सत्र न्यायधीश प्रथम ने मजिस्ट्रेट कोर्ट से पत्रावली तलब करते हुए इस मामले में अगली सुनवाई के लिए 20 मई की तारीख नियत की है.

Similar Posts