पुलिसकर्मियों ने घर में घुसकर महिलाओं से की अभद्रता, CCTV पर नजर पड़ते ही भागे

हमीरपुर जिले में सादी वर्दी में जबरन घर में घुसकर तीन पुलिसकर्मियों का घर के पुरुषों और महिलाओ से बदसलूकी करने का एक वीडियो वायरल हुआ है.

इसमे सादी ड्रेस में तीन पुलिस के जवान एक मकान में जबरन घुसकर परिजनों के साथ बदसलूकी करते हुए नजर आ रहे हैं.

Image Credit source: TV9

उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले में सादी वर्दी में जबरन घर में घुसकर तीन पुलिसकर्मियों का घर के पुरुषों और महिलाओ से बदसलूकी करने का एक वीडियो वायरल हुआ है. यह पुलिसकर्मी घर मे छापेमारी कर हत्यारोपी को संरक्षण देने वाले परिवार के एक सदस्य को गिरफ्तार करने पहुंचे थे. यह पूरा मामला घर मे लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया. जिसके बाद पीड़ित महिला ने पुलिस अधिकारियों से मामले की शिकायत करते हुए दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्यवाही की मांग की है. जिले के राठ कोतवाली क्षेत्र के मजगांव गांव निवासी महिला सुशीला ने संपूर्ण समाधान दिवस पर सीओ से शिकायत की है.

महिला सुशीला ने सीओ को शिकायत करते हुए बताया कि 15 सितंबर की रात को राठ कोतवाली के 3 पुलिसकर्मी सादा कपड़ों में जबरन घर में घुस आए और घर में मौजूद उसके परिजनों के साथ अभद्रता और मारपीट करने लगे लेकिन जब उन पुलिसकर्मियों का ध्यान मकान में लगे सीसीटीवी कैमरे पर गया तो वो पुलिसकर्मी घर से भाग निकले और आते समय घर का दरवाजा भी बन्द कर दिया. यह पूरा मामला घर मे लगे सीसीटीवी फुटेज में भी साफ दिखती दे रहा है. जिसके बाद सीओ ने मामले की जांच कर कार्यवाही करने का आश्वासन दिया है.

क्या है सीसीटीवी फुटेज में

इस सीटीटीवी फुटेज में सादी ड्रेस में तीन पुलिस के जवान एक मकान में जबरन घुसकर परिजनों के साथ बदसलूकी व हाथापाई करते हुए नजर आ रहे हैं. घर की गैलरी में खड़े दो कर्मी घर के पुरूषों को जमीन में बैठाए हैं और एक छाता लिए पुलिसकर्मी घर की महिला के साथ हाथापाई कर रहा है, लेकिन जब उनका ध्यान घर में लगे सीसीटीवी कैमरे की ओर जाता है तो वो तीनों पुलिसकर्मी वहां से भाग गए और घर से बाहर निकलते हुए घर के दरवाजे को बाहर से बंद कर गए.

छापेमारी के लिए घर पहुंची थी पुलिस

दरअसल यह पूरा मामला एक चोरी और हत्या से जुड़ा है. सर्वेश नामक एक युवक ने अपने कुछ साथियों के साथ मिलकर लाखों की चोरी की थी. पुलिस ने सभी को पकड़कर जेल भेज दिया था. जिसके बाद चोरी के माल के बंटवारे को लेकर सभी में विवाद हो गया और 26 अगस्त को सर्वेश की हत्या कर उसके शव को जंगल मे फेंक दिया गया था. पुलिस ने सर्वेश के हत्यारोपियों को जेल भेज दिया था, लेकिन एक हत्यारोपी युवक को मझगांव गांव निवासी नंदकिशोर के पुत्र अंशू ने संरक्षण दिया था. इसी के चलते पुलिसकर्मियों ने अंशू को गिरफ्तार करने के लिए उसके घर में छापेमारी की थी.

ये भी पढ़ें



सीओ ने दिया जांच कर कार्यवाही का आश्वाशन

घटना के बाद पीड़ित महिला ने राठ तहसील में हो रहे संपूर्ण समाधान दिवस में पुलिस आलाधिकारियों और प्रशासनिक अधिकारियों को शिकायती पत्र देकर घर में घुसकर अभद्रता व मारपीट करने वाले पुलिसकर्मियों के विरुद्ध कार्यवाही करने की मांग की थी. वहीं इस मामले में सीओ राठ पीके सिंह का कहना है कि पुलिस ने जिस घर में दबिश दी थी. वहां एक हिस्ट्रीशीटर अपराधी रहता है इसी के चलते सादी ड्रेस में पुलिस पहुंची थी. घर की महिलाओ ने अभद्रता की शिकायत की है जिसकी जांच की जाएगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.