पीएम मोदी संग बैठक के बाद ब्रिटिश पीएम जॉनसन बोले- हिंद-प्रशांत में दोनों देशों का साझा हित, अंतरिक्ष और समुद्री खतरों से निपटेंगे

British Pm

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (PM Modi Boris Johnson Meeting) ने शुक्रवार को दिल्ली (Delhi) के हैदराबाद हाउस में मुलाकात की है. संयुक्त बयान में ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा, ब्रिटेन नौकरशाही को कम करने और रक्षा खरीद के लिए डिलीवरी के समय को कम करने के लिए एक भारत विशिष्ट खुला सामान्य निर्यात लाइसेंस बना रहा है. उन्होंने कहा कि आज हमारी शानदार बातचीत हुई और हमने अपने रिश्ते को हर तरह से मजबूत किया है. भारत और ब्रिटेन (India UK Relations) के बीच साझेदारी हमारे समय की परिभाषित दोस्ती में से एक है.

बोरिस जॉनसन ने कहा कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र को मुक्त, खुला और नियम-आधारित रखने में दोनों देशों का साझा हित है. दोनों देश वायु, अंतरिक्ष और समुद्री खतरों से निपटने के लिए सहमत हुए हैं. हम स्थायी, घरेलू ऊर्जा के लिए कदम उठाएंगे. इस यात्रा ने दोनों देशों के संबंधों को गहरा किया है. पीएम मोदी और बोरिस जॉनसन ने प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता भी की है. जॉनसन शुक्रवार सुबह दिल्ली आए थे. जहां राष्ट्रपति भवन में पीएम मोदी ने उनका स्वागत किया. यहां उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. फिर वह महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देने के लिए राजघाट गए. इसके बाद बातचीत करने के लिए हैदराबाद हाउस आए. जबकि अपने दौरे की शुरुआत उन्होंने गुजरात के अहमदाबाद से की थी.

यूक्रेन के मसले पर बोले पीएम मोदी

वहीं पीएम मोदी ने संयुक्त बयान में यूक्रेन के मसले पर कहा, हमने यूक्रेन में तुरंत युद्धविराम और समस्या के समाधान के लिए डायलॉग और डिप्लोमेसी पर बल दिया. हमने सभी देशों की क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता के सम्मान का महत्त्व भी दोहराया है. उन्होंने कहा कि मैं ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन का भारत में स्वागत करता हूं. ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के दौरान प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की भारत यात्रा ऐतिहासिक है.

रणनीतिक साझेदारी की स्थापना की

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा, पिछले साल हमने दोनों देशों के बीच व्यापक रणनीतिक साझेदारी की भी स्थापना की. हमने रोडमैप 2030 को भी लांच किया था. FTA के विषय में दोनों देशों की टीम काम कर रही है और बातचीत में प्रगति हो रही है. हमने इस साल के अंत तक FTA के समापन का निर्णय लिया है. उन्होंने कहा कि आज हमने अपनी जलवायु और उर्जा पार्टनरशिप को और अधिक गहन करने का निर्णय लिया. हम UK को भारत के राष्ट्रीय हाइड्रोजन मिशन में शामिल होने के लिए आमंत्रित करते हैं.

Similar Posts