पीएम मोदी बोले- दूध उत्पादन में पहले स्थान पर भारत, गेहूं और चावल से भी अधिक पैदावार

Pm Modi In Dairy Plant

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने कहा कि भारत सालाना 8.5 लाख करोड़ रुपए की कीमत का दूध का उत्पादन करता है, जो गेहूं और चावल की पैदावार से अधिक है. छोटे किसान डेयरी (Dairy) क्षेत्र के सबसे बड़े लाभार्थी हैं. पीएम मोदी ने परोक्ष रूप से कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि एक पूर्व प्रधानमंत्री कहा करते थे कि दिल्ली से जारी होने के बाद एक रुपए में से केवल 15 पैसे (लाभार्थियों तक) पहुंचते हैं, लेकिन वह (मोदी) यह सुनिश्चित करते हैं कि पूरा 100 पैसा लाभार्थियों तक पहुंचे और किसानों (Farmers) के खाते में जमा किया जाए.

पीएम मोदी ने बनास डेयरी के एक नए परिसर और आलू प्रसंस्करण संयंत्र का उद्घाटन करने के बाद बनासकांठा जिले के दियोदर में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा कि सहकारी डेयरी छोटे किसानों, विशेषकर महिलाओं को सशक्त बनाती है और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करती है. उन्होंने कहा, ‘आज, भारत दुनिया का सबसे बड़ा दूध उत्पादक है. करोड़ों किसानों की आजीविका दूध पर निर्भर करती है. भारत सालाना 8.5 लाख करोड़ रुपए मूल्य का दूध उत्पादन करता है, जिस पर बड़े अर्थशास्त्रियों सहित कई लोग ध्यान नहीं देते हैं.’

साल में 3 बार 2000 रुपए हस्तांतरित करता हूं- पीएम

उन्होंने कहा, ‘गांवों की विकेन्द्रीकृत अर्थव्यवस्था प्रणाली इसका एक उदाहरण है. इसके विपरीत, गेहूं और चावल की पैदावार भी 8.5 लाख करोड़ रुपए दूध उत्पादन के बराबर नहीं है और छोटे किसान डेयरी क्षेत्र के सबसे बड़े लाभार्थी हैं.’ उन्होंने बनास डेयरी की कई अन्य परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया.

पीएम मोदी ने कहा, ‘दिल्ली जाने के बाद (2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद) मैंने देशभर के छोटे किसानों की जिम्मेदारी संभाली और आज मैं साल में तीन बार किसानों के बैंक खातों में 2,000 रुपए हस्तांतरित करता हूं.’ उन्होंने कहा कि बनास डेयरी के नए डेयरी परिसर और आलू प्रसंस्करण संयंत्र का उद्देश्य स्थानीय किसानों को सशक्त बनाना और क्षेत्र में ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देना है.

कई उत्पादों को किया जाएगा निर्यात

बनास डेयरी का नया परिसर और आलू प्रसंस्करण संयंत्र 600 करोड़ रुपए से अधिक की लागत से बनाया गया है. इसका मकसद प्रतिदिन लगभग 30 लाख लीटर दूध का प्रसंस्करण, लगभग 80 टन मक्खन, एक लाख लीटर आइसक्रीम, 20 टन खोया और छह टन चॉकलेट का उत्पादन करना है. आलू प्रसंस्करण संयंत्र में फ्रेंच फ्राइज, आलू के चिप्स, आलू टिक्की आदि जैसे उत्पादों का उत्पादन किया जाएगा जिनमें से कई उत्पाद अन्य देशों को निर्यात किए जाएंगे.

प्रधानमंत्री ने बनास सामुदायिक रेडियो स्टेशन, पालनपुर में पनीर उत्पादों एवं मट्ठा पाउडर के उत्पादन के लिए विस्तारित सुविधाओं और दामा में स्थापित जैविक खाद एवं बायोगैस संयंत्र को भी राष्ट्र को समर्पित किया. उन्होंने चार अलग-अलग स्थानों पर स्थापित होने वाले 100 टन क्षमता के चार गोबर गैस संयंत्रों की आधारशिला भी रखी.

Similar Posts