पाकिस्तान की यूनिवर्सिटी का ‘तुगलकी फरमान’, छात्राओं के स्मार्टफोन यूज करने पर लगाया बैन, नियम तोड़ने पर सख्त कार्रवाई की दी चेतावनी

Pakistan School

पाकिस्तान (Pakistan) की पहचान एक रूढ़िवादी देश के तौर पर होती है, जहां अक्सर ही महिलाओं और अल्पसंख्यकों के अधिकारों का हनन किया जाता है. एक बार फिर महिलाओं के दमन की एक और खबर पड़ोसी मुल्क से आई है. दरअसल, पाकिस्तान की महिला यूनिवर्सिटी ने छात्राओं के स्मार्टफोन (Smartphone ban in Pakistan University) इस्तेमाल करने पर रोक लगा दी है. इस ‘तुगलकी फरमान’ को जारी किया है, पाकिस्तान के उत्तर-पश्चिम में स्थित एक महिला यूनिवर्सिटी ने. इसने साफ शब्दों में छात्राओं को कहा है कि वे कैंपस के भीतर स्मार्टफोन का इस्तेमाल नहीं कर सकती हैं. इसके लिए एक बेतुका तर्क भी दिया गया है. कहा गया है कि फोन इस्तेमाल करने से उनका व्यवहार बदल जाता है.

पड़ोसी मुल्क के उत्तर-पश्चिम में मौजूद इलाकों की पहचान सबसे अधिक रुढ़िवादी क्षेत्रों के तौर पर होती है. स्मार्टफोन बैन होने की जानकारी एक टीवी रिपोर्ट में दी गई है. इसमें बताया गया है कि स्वाबी यूनिवर्सिटी (Women University Swabi) अशांत खैबर पख्तूनख्वा में स्थित है. इस इलाके में तालिबानी आतंकी एक्टिव हैं. अक्सर ही तालिबान (Taliban) के आतंकी यहां पर लड़कियों के शिक्षण संस्थानों को निशाना बनाते हैं. समा टीवी की खबर के मुताबिक, यूनिवर्सिटी ने एक नोटिफिकेशन जारी कर कहा है, ’20 अप्रैल 2022 से वुमेन यूनिवर्सिटी स्वाबी के कैंपस में स्मार्टफोन/टच स्क्रीन मोबाइल और टैबलेट के इस्तेमाल की इजाजत नहीं रहेगी.’

स्मार्टफोन बैन करने का दिया गया ये बेतुका तर्क

नोटिफिकेशन में कहा गया, ‘यह देखा गया है कि छात्र यूनिवर्सिटी के समय के दौरान व्यापक तौर पर सोशल मीडिया ऐप का उपयोग करते हैं जो उनकी शिक्षा, व्यवहार और प्रदर्शन को प्रभावित करते हैं. इसलिए, यह निर्देश दिया जाता है कि छात्र यूनिवर्सिटी के समय के दौरान मोबाइल फोन का उपयोग नहीं करें.’ अधिसूचना के मुताबिक, नियम का उल्लंघन करने पर यूनिवर्सिटी सख्त कार्रवाई करेगा और 5,000 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा.

पहले भी दिए गए हैं इस तरह के फैसले

खैबर पख्तूनख्वा में मौजूद यूनिवर्सिटिज अक्सर ही ड्रेस कोड और हेयर स्टाइल सहित महिला छात्रों पर सख्त पाबंदियां लगाती हुई देखी जाती हैं. प्रांत की यूनिवर्सिटिज छात्राओं को सलवार कमीज पहनने को कहती हैं. पिछले साल मार्च में, पेशावर यूनिवर्सिटी ने छात्रों को नए ड्रेस कोड का पालन करने और हर समय अपने आईडी कार्ड पहनने का निर्देश दिया था. इसने निर्देश दिया कि महिलाओं को अपनी पसंद की कमीज के साथ सफेद सलवार पहनना होगा और पुरुष छात्रों को सभ्य कपड़े पहनने होंगे. यूनिवर्सिटी के अधिकारियों के अनुसार, ड्रेस कोड यह सुनिश्चित करेगा कि छात्र कैंपस में आने पर समान दिखने वाले कपड़े पहनें.

Similar Posts