पश्चिम बंगाल के पांडवेश्वर में TMC नेता का फंदे से लटकता मिला शव, मचा हड़कंप

पश्चिम बंगाल के अंडाल के पांडवेश्वर इलाके में एक तृणमूल नेता का शव फंदे से लटकता हुआ पाया है. इससे पूरे इलाके में हड़कंप मच गया है. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और जांच शुरू की है.

फोटोः अंडाल में टीएमसी नेता की हुई मौत.

Image Credit source: Tv 9 Bharatvarsh

पश्चिम बंगाल के अंडाल के पांडवेश्वर इलाके में एक तृणमूल नेता की रहस्यमय मौत से हड़कंप मच गया है. रविवार की सुबह पांडवेश्वर पंचायत समिति नादिया ढीबर का फंदे से लटकता हुआ शव उसके घर से बरामद किया गया. पुलिस ने शव को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. जांच भी शुरू हो गई है. नादिया का घर अंडाल थाने के पांडवेश्वर विधानसभा के चोरा गांव में है. रविवार की सुबह नादिया का लटका हुआ शव उनके घर से बरामद किया गया. नादिया पेशे से वकील थे. इस तरह की घटना से नादिया के परिवार वाले और पड़ोसी सदमे में हैं.

नादिया के एक पड़ोसी किशोर चक्रवर्ती ने बताया, “हर दूसरे दिन की तरह, रविवार की सुबह, नादिया अपने वकालत के काम के लिए अपना कार्यालय खोलकर बैठते थे, लेकिन रविवार को फंदे से लटका उनका शव मिला. यह सुनकर हम हैरान हैं.”

नौकरानी ने फंदे से लटकता हुआ देखा शव

पांडवेश्वर विधायक नरेंद्रनाथ चक्रवर्ती मौके पर गए. उन्होंने कहा, “यह बेहद दुखद घटना है., तृणमूल के एक योग्य नेता का निधन हो गया. वह एक अच्छे नेता थे. वे तृणमूल के कुशल सिपाही थे. हालांकि पुलिस ने घटना के कारणों की जांच शुरू कर दी है.” बता दें कि मृतक लंबे समय से राजनीति से जुड़े रहे थे. पारिवारिक सूत्रों के अनुसार अन्य दिनों की तरह शनिवार की रात भी नादिया खाने-पीने के बाद एक निश्चित कमरे में सोने चले गए. उन्होंने सुबह उठकर अपने कार्यालय में कुछ जरूरी दस्तावेज चेक किए. करीब साढ़े सात बजे घर की नौकरानी बेसमेंट में घर की सफाई करने गई तो तृणमूल नेता को गले में फंदा से लटका देखा. नौकरानी के रोने पर परिजन और पड़ोसी दौड़ पड़े. इसकी जानकारी बनबहाल चौकी पुलिस को दी गई.

ये भी पढ़ें



तृणमूल कांग्रेस नेता की मौत से पार्टी और परिवार है सदमे में

बता दें कि नादिया ढीबर पहले चोरा पंचायत की सदस्य थे. उन्होंने 2013 में चुनाव जीता और जिला परिषद के सदस्य बने थे. वर्तमान में वे पांडवेश्वर पंचायत समिति के खाद्य अधिकारी के प्रभारी थे. उन्होंने हाल ही में दुर्गापुर बार एसोसिएशन के चुनाव में भी हिस्सा लिया था, लेकिन ऐसी क्या घटना घटी, जिससे उन्हें यह कदम उठाना पड़ा? इसे लेकर भ्रम की स्थिति है. पुलिस ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बिना मौत के कारणों का पता नहीं चल सकता है. शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है. इस बीच, पुलिस ने परिवार के सदस्यों से भी पूछताछ शुरू की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.