नौकरी की फर्जी वैकेंसी निकाल कर बेरोजगारों के साथ फ्रॉड करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, सिक्योरिटी के नाम पर ऐंठते थे लाखों, तीन गिरफ्तार

Mirzapur Cyber Fraud

यूपी की मिर्जापुर पुलिस (Mirzapur Police) ने वेबसाइट बनाकर बेरोजगारों को नौकरी दिलाने के नाम पर साइबर फ्राड के जरिए लाखों रुपए का चूना लगाने वाले एक गिरोह का पर्दाफाश किया है (Cyber Fraud) और तीन ठगों को गिरफ्तार भी किया है. पकड़े गए सभी आरोपी बुलंदशहर के रहने वाले हैं. यह लोग नोएडा में ऑफिस खोलकर बेरोजगारों को देश विदेश में नौकरी लगवाने का झांसा देते थे. आरोपी देश विदेश में नौकरी की वैकेंसी निकालते थे (Job Fraud). नौकरी के लालच में बेरोजगार युवक इनके झांसे में आ जाते थे फिर सिक्योरिटी के नाम पर पीड़ित लोगों से पैसे ऐंठ लेते थे.

पुलिस के मुताबिक आयुष गुप्ता जो कि शक्तिनगर, सोनभद्र के निवासी है, इसने 27 मई को Monster.india.com वेबसाइट में काम करने वाली शिवानी के नाम शिकायत दर्ज कराई थी. पुलिस के मुताबिक पीड़ित आयुष को एक्सिस बैंक में नौकरी दिलवाने के नाम पर 2 लाख 76 हजार रुपए की धोखाधड़ी करने का मामला शक्तिनगर में दर्ज कराया था. मुकदमा दर्ज होने के बाद जीरो एफआईआर मंडलीय साइबर थाना मिर्जापुर में आनलाइल ट्रान्सफर किया गया और आईटी एक्ट का अभियोग पंजीकृत किया गया. सर्विलांस के जरिए पुलिस ने छानबीन की तो आरोपी भविश कौशिक, मोनु यादव, अरुण कुमार का नाम सामने आया. यह सभी बुलंदशहर के रहने वालें हैं. स्थानीय पुलिस के सहयोग से मिर्जापुर पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर लिया.

ज्यादा पैसे कमाने के चक्कर में जीजा के साथ करने लगे काम

पुलिस के मुताबिक, पूछताछ में अरुण यादव ने बताया कि मोनू मेरा चचेरा भाई है और भविश कौशिक मेरा दोस्त है. अरुण के जीजा अमित जो की नोएडा में रहता है. अमित के पास इन लोगों का आना जाना था. अपना स्वंय का आफिस बनाया है. ज्यादा पैसे कमाने के चक्कर में यह सब जीजा अमित के झांसे में आ गए और अपने जीजा से साइबर फ्राड करने का तरीका सीखा. फिर अमित के साथ मिलकर ठगी करने लगे. यह लोग वेबसाइट में देश विदेश में नौकरी की वैकेंसी निकालते थे. नौकरी के लालच में बेरोजगार युवक इनके झांसे में आ जाते थे फिर सिक्योरिटी के नाम पर पीड़ित लोगों से पैसे ऐंठ लेते थे.

साइबर ठगी हो तो कैसे करें शिकायत दर्ज?

साइबर थाने के प्रभारी चंद्रशेखर यादव ने बताया कि आज के समय साइबर ठगी के लोग शिकार हो रहे हैं. जानकारी के अभाव में पीड़ित अपने साथ हुई ठगी की शिकायत भी नहीं दर्ज करा पा रहे है. और एक झटके में उनकी गाढ़ी कमाई को अपराधी लूट ले रहे हैं. साथ ही बताया कि अगर कोई ठगी का शिकार होता है तो उसे सबसे पहले टोल फ्री नंबर 1930 पर अपनी शिकायत दर्ज करनी चाहिए. नहीं तो www.Sybercrime.gov.in वेबसाइट पर जाकर अपनी शिकायत को दर्ज करना चाहिए.

Similar Posts