नाबालिग से रेप किया तो मिलेगी दिल दहलाने वाली सजा! इस देश में निर्मम तरीके से नपुंसक बनाने की तैयारी

minor Rape Case

दुनियाभर में दुष्कर्म के दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाती है. लेकिन इसके बाद भी इस घिनौने अपराध पर लगाम नहीं लग पा रही है. मासूम बच्चों को भी आरोपी अपनी हैवानियत का शिकार बना लेते हैं. लेकिन अब एक देश ऐसा कानून लेकर आने वाला है, जिसके बाद दुष्कर्म जैसा घिनौना अपराध करने से पहले अपराधी दो बार सोचेंगे. दरअसल, पेरू की सरकार (Peru Government) नाबालिग से दुष्कर्म करने पर दोषी को रासायनिक तरीके से नपुसंक (Chemical castration) बनाने की मंजूरी देने वाले विधेयक को पेश करेगी. पेरू (Peru) के कैबिनेट मंत्रियों ने बुधवार को इसकी जानकारी दी.

दरअसल, पेरू में तीन वर्षीय एक बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद देशभर में गुस्सा है. कानून मंत्री फेलिक्स चेरो ने कहा, ‘हम मानते हैं कि यह उपाय दुष्कर्म करने वालों के लिए एक कठोर सजा होगी.’ उन्होंने कहा कि सरकार को उम्मीद है कि नाबालिगों से दुष्कर्म करने वाले पहले जेल की सजा काटेंगे. इसके बाद उनकी सजा के अंत में रासायनिक रूप से उन्हें नपुंसक बनाया जाएगा. सरकार की तरफ से ये कदम तब उठाया गया है, जब इस महीने एक 48 वर्षीय व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है. इस व्यक्ति पर आरोप है कि उसने एक तीन वर्षीय बच्ची के साथ दुष्कर्म किया है. इस घटना के बाद बच्ची को सर्जरी करवानी पड़ी है.

राष्ट्रपति ने इस फैसले पर क्या कहा?

राष्ट्रपति पेड्रो कैस्टिलो (Pedro Castillo) ने इस विधेयक का समर्थन करते हुए कहा कि नाबालिगों का दुष्कर्म करने वाले लोगों को ऐसी सजा मिलनी चाहिए, जो एक उदाहरण पेश करे. कैस्टिलो ने इस हफ्ते कहा था, ‘हमें उम्मीद है कि कांग्रेस इस विधेयक का समर्थन करेगी.’ इस विधेयक को कानून बनने के लिए पेरू की कांग्रेस से होकर गुजरना होगा, जहां पर विपक्ष बहुमत में है. कंजर्वेटिव सांसदों में से कई ने नाबालिग के साथ दुष्कर्म करने वाले अपराधी को मौत की सजा देने की भी वकालत की थी. उन्होंने कहा था कि इसे भी कानून में वैकल्पिक प्रस्ताव के तौर पर शामिल किया जा सकता है.

फैसले का किया जा रहा विरोध

हालांकि, पेरू के अपने स्वास्थ्य मंत्री जॉर्ज लोपेज, पीड़ितों के माता-पिता और महिला अधिकार संगठनों ने रासायनिक तरीके से दोषी को नपुसंक बनाने के प्रस्ताव की आलोचना की है. महिला अधिकार समूह फ्लोरा ट्रिस्टन ने ट्वीट किया, ‘हमें खेद है कि सरकार यौन हिंसा को नहीं समझती है.’ इसने कहा, ‘हमें न्यायिक प्रक्रियाओं में तेजी लाने, देखभाल में सुधार करने, सजा देने और रोकथाम को मजबूत करने के उपायों की जरूरत है.’ पेरू में ये पहला मौका नहीं है, जब नेताओं ने इस तरह के उपाय करने का सुझाव दिया है.

Similar Posts