धोखा दे गई रवींद्र जडेजा की कैचिंग, नहीं चली एमएस धोनी की स्टंपिंग, मुंबई के सामने CSK की खस्ताहाल फील्डिंग

Ravindra Jadeja And Ms Dhoni Ipl 2022

चेन्नई सुपर किंग्स- एक ऐसी टीम, जिसमें विश्व के सबसे बेहतरीन विकेटकीपर के रूप में महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) हैं. साथ ही में सबसे सुरक्षित फील्डर के रूप में रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) हैं. ऐसे में इस टीम से मैदान पर फील्डिंग के मोर्चे पर गलती की संभावना कम ही होती है. ऐसा होता भी है और 10 में से लगभग 9 बार ये दोनों खिलाड़ी अपने-अपने काम को सफाई से अंजाम देते हैं, फिर चाहे वह कितना भी मुश्किल हो. लेकिन क्रिकेट का खेल ही ऐसा है कि कभी-कभी बेस्ट खिलाड़ी को भी गलती के लिए मजबूर कर देता है. आईपीएल 2022 में मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपर किंग्स (MI vs CSK) के मुकाबले में ऐसा ही कुछ हुआ, जहां धोनी और जडेजा ने एक ही ओवर में स्टंपिंग और कैच के मौके गंवा दिए, जिसने हर किसी को चौंका दिया.

ये हैरान करने वाले नजारे दिखे गुरुवार 21 अप्रैल को डीवाई पाटिल स्टेडियम में, जहां चेन्नई के सामने मुंबई की पहले ओवर से ही हालत खराब हो गई और टीम लगातार विकेट गंवाती रही. वो भी तब, जबकि चेन्नई ने इस दौरान विकेट लेने के कम से कम 4 मौके गंवाए और ये गलती करने वाले सभी खिलाड़ी टीम के सबसे बड़े धुरंधरों में से हैं. मुंबई ने पहले ओवर में ही कप्तान रोहित शर्मा और इशान किशन के विकेट गंवा दिए थे, जिन्हें मुकेश चौधरी ने आउट किया. फिर दूसरे ओवर में भी चेन्नई के पास दो मौके आए और दोनों बार टीम को निराशा हाथ लगी.

एक ही ओवर में धोनी और जडेजा फेल

मुंबई की पारी का दूसरा ओवर कराने के लिए आए चेन्नई के बाएं हाथ के स्पिनर मिचेल सैंटनर. ओवर की दूसरी ही गेंद पर सूर्यकुमार यादव बड़ा शॉट खेलना चाहते थे, लेकिन वह शॉट नहीं जमा सके और गेंद उनके बल्ले के पास से निकल गई. धोनी के पास यहां पर स्टंपिंग का मौका था, लेकिन वह गेंद को पकड़ भी नहीं सके. हालांकि, ये थोड़ा मुश्किल था, लेकिन धोनी अपने पूरे करियर में कई बार ऐसी स्टंपिंग को अंजाम दे चुके थे.

धोनी भले ही मुश्किल मौके को भुना नहीं पाए, लेकिन इसी ओवर में अगली जो घटना हुई, उसने तो पर तो किसी के लिए भी विश्वास करना मुश्किल था. सैंटनर की आखिरी गेंद को डेवाल्ड ब्रेविस ने हवा में ऊंचा उठा दिया और मिड ऑफ के पास आसान कैच का मौका था. जडेजा कवर्स से कैच के लिए दौड़े, जबकि लॉन्ग ऑफ से ड्वेन प्रिटोरियस आ रहे थे, जो जडेजा को देखकर रुक गए और आखिर में जडेजा गेंद को छू भी नहीं पाए.

जडेजा ने तो हद कर दी

अगर जडेजा के उस कैच को न लपक पाने से हर कोई हैरान था, तो उनकी हैरानी को जडेजा ने चरम पर पहुंचा दिया क्योंकि एक बार फिर उन्होंने कैच का आसान मौका गंवा दिया. संयोग से इस बार भी गेंदबाज सैंटनर ही थे. 12वें ओवर की आखिरी गेंद पर ऋतिक शौकीन ने हवा में ऊंचा शॉट खेल दिया और पॉइंट की ओर कैच उछल गया. जडेजा गेंद के ठीक नीचे थे और ये सबसे आसान कैच था, लेकिन दिन ही ऐसा था कि जडेजा के हाथ से ये भी फिसल गया. शायद ही कभी ऐसा हुआ हो, जब जडेजा ने एक से ज्यादा कैच छोड़े हों.

ब्रावो-दुबे भी पीछे नहीं

वैसे चेन्नई की फील्डिंग की हालत ये थी, कि सिर्फ जडेजा ही नहीं, बल्कि ड्वेन ब्रावो जैसे कमाल के फील्डर ने भी कैच टपका दिया. पांचवें ओवर में मुकेश की पहली ही गेंद पर तिलक वर्मा का कैच स्लिप में गया, लेकिन हाथ में आए इस मौके को ब्रावो लपक नहीं सके. तिलक वर्मा (51 नाबाद) ने इसका फायदा उठाया और मुश्किल में फंसी टीम के लिए अर्धशतकीय पारी खेली. वहीं 19वें ओवर में शिवम दुबे ने भी जयदेव उनादकट का आसान कैच टपकाया, जिन्होंने आखिर में 9 गेंदों में 19 रन ठोक मुंबई को 155 रन तक पहुंचाया.

Similar Posts