दिल्ली-पंजाब के बाद अब गुजरात में राघव चड्ढा को मिली बड़ी जिम्मेदारी, AAP ने बनाया को-इंचार्ज

गुजरात विधानसभा चुनाव को कुछ ही महीने शेष हैं. ऐसे में सभी पार्टियां अपने-अपने स्तर पर प्रयास कर रही हैं. अब देखना यह होगा कि राघव चड्ढा को गुजरात का सह-प्रभारी नियुक्त करना AAP को कितना फायदा दिलाएगा.

राघव चड्डा.

Image Credit source: PTI

पंजाब विधानसभा चुनाव में भारी बहुमत से जीत के बाद अब आम आदमी पार्टी ने गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर अपनी कमर कस ली है. ‘आप’ के झाड़ू का जैसा जादू पंजाब में देखने को मिला है, पार्टी ऐसी ही उम्मीद गुजरात चुनाव से भी लगाए हुए है. यही वजह है कि AAP अपना विस्तार करने के लिए नए-नए और मजबूत फैसले ले रही है. दरअसल, गुजरात चुनाव से पहले आम आदमी पार्टी ने राघव चड्ढा को बड़ी जिम्मेदारी दी है. ‘आप’ ने राज्यसभा सांसद चड्ढा को गुजरात का सह-प्रभारी नियुक्त किया है. चड्ढा पंजाब विधानसभा चुनाव में पार्टी के लिए अहम भूमिका निभा चुके हैं. इसी को देखते हुए उनसे गुजरात में भी बड़ी उम्मीदें लगाईं जा रही हैं.

राघव चड्ढा को दिल्ली और पंजाब के बाद गुजरात चुनाव में ये बड़ी जिम्मेदारी मिली है. गुजरात में पार्टी की बढ़ती लोकप्रियता के मद्देनजर आम आदमी पार्टी ने चड्ढा जैसे प्रभावशाली युवा चेहरे को मैदान में उतारा है. पंजाब चुनाव में सांसद ने अहम भूमिका निभाई थी. उनके सहयोग से पार्टी कांग्रेस जैसी पुरानी पार्टी को हराकर विजय हासिल कर सकी. पंजाब में ‘आप’ ने 117 में से 92 सीटें जीतकर 79 प्रतिशत बहुमत हासिल किया था. अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली AAP गुजरात में भारी जीत की उम्मीद लगा रही है. पिछले विधानसभा चुनावों में पार्टी यहां एक भी सीट नहीं जीत सकी थी. हालांकि पंजाब में जीत के बाद पार्टी की आकांक्षाएं और इच्छाएं बढ़ी हैं.

दिल्ली-पंजाब में निभाई बड़ी जिम्मेदारी

राघव चड्ढा ने दिल्ली और पंजाब दोनों ही राज्यों में बड़ी जिम्मेदारियां निभाई हैं. AAP युवाओं के बीच चड्ढा को एक बहुत लोकप्रिय नेता के तौर पर भी देखती है. गुजरात में इस साल के आखिर में चुनाव होने हैं. अपनी आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए ये चुनाव पार्टी के लिए बेहद जरूरी हैं. ‘आप’ प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने गुजरात की कई बार यात्रा की है. यही नहीं, उन्होंने दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया को भी दिल्ली के ‘डेवलपमेंट मॉडल’ का बखान करने के लिए अपने साथ खींच लिया. गुजरात में आम आदमी पार्टी एक नई पार्टी है. पार्टी का पूरा फोकस राज्य की सत्ता से बीजेपी को बाहर करने पर है. इसके अलावा, वो राज्य में अपनी स्थिति को भी मजबूत करना चाहती है.

केजरीवाल ने किए लुभावने वादे

‘आप’ बाकी राज्यों की तरह गुजरात में भी कई सारे लुभावने वादे किए हैं. केजरीवाल ने राज्य में सभी को फ्री और बेहतर हेल्थ सर्विस, हर घर हर महीने 300 यूनिट तक बिजली फ्री, हर युवा को नौकरी, बेरोजगारों को 3000 रुपये का मासिक बेरोजगारी भत्ता और 18 साल से ज्यादा उम्र की महिलाओं को 1000 रुपये का मासिक भत्ता देने का वादा किया है. यही नहीं, राज्य के एजुकेशन मॉडल में भी कई तरह के बदलाव की गारंटी दी है. गुजरात विधानसभा चुनाव को कुछ ही महीने शेष हैं. ऐसे में सभी पार्टियां अपने-अपने स्तर पर प्रयास कर रही हैं. अब देखना यह होगा कि राघव चड्ढा को गुजरात का सह-प्रभारी नियुक्त करना AAP को कितना फायदा दिलाएगा.

ये भी पढ़ें



(एजेंसी इनपुट के साथ)

Leave a Reply

Your email address will not be published.