डॉलर के मुकाबले नए रिकॉर्ड स्तर पर लुढ़का रुपया, 78.32 के अब तक के सबसे निचले स्तर पर बंद

Rupee at record low

डॉलर के मुकाबले रुपये (dollar vs rupee) में लगातार गिरावट देखने को मिली है. बुधवार के कारोबार में रुपया कमजोरी के साथ अब तक सबसे निचले स्तरों पर पहुंच गया. रुपये में ये कमजोरी विदेशी निवेशकों के द्वारा देश से फंड निकालने और घरेलू शेयर बाजार में गिरावट की वजह से देखने को मिली है. इसके साथ ही डॉलर में आई मजबूती का भी रुपये पर असर पड़ा. बाजार के जानकारों की माने तो रुपये ( dollar rate in rupee) में आज और गिरावट संभव थी लेकिन दुनिया भर में मंदी की आशंका के बाद कच्चे तेल (Crude Oil) में गिरावट से रुपये में नुकसान कुछ कम रहा. बुधवार को रुपया 19 पैसे की कमजोरी के साथ 78.32 के स्तर पर बंद हुआ जो कि रुपये का अब तक का सबसे निचला स्तर है.

कैसा रहा आज का कारोबार

आज के कारोबार में डॉलर के मुकाबले रुपया पिछले स्तरों के करीब ही 78.13 के स्तर पर खुला जो कि इसका दिन का उच्चतम स्तर भी रहा. कारोबार में कमजोरी आने पर डॉलर के मुकाबले रुपया 78.7 के स्तर तक पहुंच गया जो कि रुपये का अब तक का सबसे निचला स्तर है. कारोबार के अंत में रुपये में सुधार दर्ज हुआ और रुपये 78.32 के स्तर पर बंद हुआ. रेलीगेयर ब्रोकिंग की वाइस प्रेजीडेंट कमोडिटी और करंसी रिसर्च सुगंधा सचदेवा ने कहा कि घरेलू बाजार से विदेशी निवेशकों के द्वारा फंड निकालने और डॉलर में मजबूती के बीच रुपया नए रिकॉर्ड निचले स्तर तक पहुंच गया. उनके मुताबिक दुनिया भर में ग्रोथ को लेकर नई आशंकाओं के बीच सेंट्रल बैंक के द्वारा सख्त कदमों की आशंका से निवेशकों के बीच सेंटीमेंट्स बिगड़े हैं. दरअसल ब्रिटेन की महंगाई दर 40 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है. जिससे आशंका बनी है कि ब्रिटेन में बढ़ती महंगाई और घटती ग्रोथ का झटका देखने को मिल सकता है. फिलहाल निवेशक फेडरल रिजर्व के प्रमुख पावेल के स्टेटमेंट का इंतजार कर रहे हैं. जिससे उन्हें पॉलिसी की दिशा के संकेत मिल सकते हैं. सचदेवा के मुताबिक इससे रुपये की आगे की दिशा मिल सकती है जिसे फिलहाल 78.5 पर मजबूत सहारा मिल रहा है.

क्या हैं अन्य संकेत

आड डॉलर इंडेक्स में सीमित मजबूती देखने को मिली है और इंडेक्स 0.05 प्रतिशत बढ़कर 104.48 के स्तर पर पहुंच गया. घरेलू शेयर बाजार में आज गिरावट देखने को मिली है और दोनो प्रमुख इंडेक्स 1 प्रतिशत से ज्यादा नुकसान के साथ बंद हुए हैं. बुधवार को भी विदेशी निवेशकों की तरफ से बिकवाली देखने को मिली और एफआईआई ने करीब 3 हजार करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे हैं. रुपये को सहारा कच्चे तेल की कीमतों से मिला आज ब्रेट क्रूड की कीमतों में 4 प्रतिशत से ज्यादा की गिरावट देखने को मिली है और कीमतें 110 डॉलर प्रति बैरल के स्तर से नीचे पहुंच गया.

Similar Posts