टीम इंडिया से बाहर चल रहे खिलाड़ियों ने काउंटी में मचाया धमाल, गेंद-बल्ले से दिखाया कमाल

चेतेश्वर पुजारा, उमेश यादव, नवदीप सैनी जैसे खिलाड़ियों ने काउंटी क्रिकेट में किया अच्छा प्रदर्शन, मुश्किल पिचों पर दिखाया दम.

चेतेश्वर पुजारा, उमेश यादव ने दिखाया काउंटी क्रिकेट में दम

Image Credit source: INSTAGRAM

इसकी शुरूआत तब हुई जब लगातार कम स्कोर करने के बाद चेतेश्वर पुजारा को भारतीय टेस्ट टीम से बाहर कर दिया गया और उन्होंने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर को फिर से शुरू करने के लिए ससेक्स काउंटी टीम में शामिल होने का फैसला किया. कई भारतीयों ने अपना करियर बनाए रखने के लिए काउंटी क्रिकेट ज्वाइन करने का रास्ता अपनाया, जिसने कई अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों को फॉर्म में वापस आने में मदद की है. ऐसा लगता है कि भारतीय क्रिकेटरों ने कठिन इंग्लिश परिस्थितियों में खुद को परखकर किसी भी फॉर्मेट में सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजी या यहां तक कि गेंदबाजी करने के तरीके में महारत हासिल कर ली है. यह कोई संयोग नहीं है कि काउंटी क्रिकेट में भारतीय क्रिकेटरों के लंबे समय तक नदारद रहने के बाद, इस सीजन में कुछ खिलाड़ियों ने इंग्लैंड का रुख किया है. इन भारतीय खिलाड़ियों ने अब तक काउंटी क्रिकेट में कैसा प्रदर्शन किया पढ़िए ये खास रिपोर्ट

चेतेश्वर पुजारा

इस सीज़न में काउंटी चैंपियनशिप से भारत को सबसे बड़ा फायदा हुआ, पुजारा ने अपने समय का सदुपयोग किया और ससेक्स के साथ अपने पूरे कार्यकाल के दौरान सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में रहे. उन्होंने काउंटी डिवीजन 2 में अप्रैल के मध्य में डर्बीशायर के खिलाफ एक मैच खेलकर अपनी शुरुआत की और दूसरी पारी में दोहरा शतक बनाया. भारतीय टेस्ट बल्लेबाज ने कप्तान टॉम हेन्स के साथ 351 रनों की साझेदारी की, जिन्होंने दोहरा शतक भी बनाया. तीसरे विकेट की साझेदारी साढ़े सात घंटे से अधिक समय तक चली जिसमें ससेक्स ने शानदार ड्रॉ हासिल किया.

उनकी 201 रनों की पारी काउंटी सीज़न की एक शानदार शुरुआत थी जिसमें उन्होंने अपनी अगली कुछ पारियों में 109, 12, 203, 16, 170*, 3, 46, 231, 2, 49 और 46 रन बनाए. पुजारा अब तक इस टूर्नामेंट में तीसरे सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं, जिन्होंने 13 पारियों में 109.4 की शानदार औसत से 1094 रन बनाए हैं.

उनके कारनामे सिर्फ क्रिकेट के सबसे लंबे फॉर्मेट तक ही सीमित नहीं रहे. भारत के नंबर 3 टेस्ट बल्लेबाज ने रॉयल लंदन वन डे कप में भी अपनी छाप छोड़ी, जहां उन्हें ससेक्स टीम को लीड करने की जिम्मेदारी दी गई. ग्लूस्टरशायर के खिलाफ अपनी दूसरी पारी में पुजारा ने 71 गेंदों में 63 रन बनाए और वारविकशायर के खिलाफ 79 गेंदों में 107 रनों की शानदार पारी खेली. उन्होंने दो शतक भी बनाए, जिसमें सरे (Surrey) के खिलाफ 131 गेंदों पर 174 रनों की चौंका देने वाली पारी भी शामिल है. 17 सितंबर, शनिवार को टूर्नामेंट की समाप्ति साथ पुजारा 50 ओवर के फॉर्मेट में दूसरे सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी के रूप में उभरे, जिसमें नौ पारियों में 89.14 के असाधारण औसत से 624 रन शामिल हैं.

वाशिंगटन सुंदर

हाथ की चोट से उबरने के दौरान युवा भारतीय ऑलराउंडर ने जून में लंकाशायर के लिए साइन किया. वे तीन काउंटी चैम्पियनशिप खेलों और सभी रॉयल लंदन वनडे टूर्नामेंट के लिए उपलब्ध रहे. जुलाई में नॉर्थम्पटनशायर के खिलाफ अपने पहले मैच में सुंदर ने पांच विकेट लिए और दूसरी पारी में नाबाद 34 रन बनाकर लंकाशायर को जीत दिलाई.

उन्होंने जिम्बाब्वे सीरीज के लिए भारतीय टीम में वापसी करने से पहले केंट के खिलाफ अगले मैच में तीन और विकेट लिए. हालांकि कंधे की चोट के कारण उन्हें अपने काउंटी सीजन के दौरान अफ्रीकी देश के खिलाफ सीरीज़ से हटने के लिए मजबूर होना पड़ा. मैदान पर उतरने के लिए फिट और बेताब सुंदर तमिलनाडु के उप-कप्तान के तौर पर अक्टूबर में शुरू होने वाली सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी 2022 में वापसी करने के लिए तैयार हैं.

क्रुणाल पंड्या

पांड्या ने जुलाई में रॉयल लंदन कप के लिए वारविकशायर के साथ करार किया. उन्होंने ग्लूस्टरशायर के खिलाफ अपनी पहली पारी में दो विकेट लिए. इसके बाद पांड्या ने सरे (Surrey) के खिलाफ टाई गेम में 82 गेंदों में 74 रन बनाए और ससेक्स और लीसेस्टरशायर के खिलाफ तीन और विकेट लिए. लेकिन दुर्भाग्य से नॉटिंघमशायर के खिलाफ एक मैच के दौरान उन्हें कमर में चोट लग गई और इस कारण उन्हें आराम करना पड़ा. उन्होंने 5.62 की अच्छी इकॉनमी के साथ पांच मैचों में नौ विकेट लिए.

उमेश यादव

आउट ऑफ फेवर भारतीय तेज गेंदबाज को मिडलसेक्स ने 2022 सीज़न के बचे हुए खेलों के लिए शाहीन शाह अफरीदी की जगह चुना. काउंटी डिवीजन 2 में अपने डेब्यू मैच में यादव ने तीन विकेट लिए और 41 गेंदों में 44 रन की नाबाद पारी खेली. रॉयल लंदन वन डे कप में अपने पहले मैच में उमेश ने पांच विकेट लेकर डरहम के बल्लेबाजी क्रम को तहस-नहस कर दिया.

नॉटिंघमशायर के खिलाफ चार और समरसेट के खिलाफ दो विकेट लेने से पहले उन्होंने सरे के खिलाफ अगले मैच में तीन और विकेट लिए. हालांकि ग्लॉस्टरशायर के खिलाफ एक मैच के दौरान लगी चोट ने उन्हें आराम करने के लिए भारत लौटने पर मजबूर कर दिया, लेकिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होने वाली टी20 सीरीज से बाहर हो चुके मोहम्मद शमी की जगह उन्हें टीम इंडिया में मौका दिया गया है. उन्होंने मिडलसेक्स के लिए सबसे अधिक 5.17 की इकॉनमी रेट से सात मैचों में 16 विकेट लिए.

नवदीप सैनी

सैनी ने केंट के साथ एक समझौते पर सहमति के बाद काउंटी क्रिकेट खेलने के लिए करार किया. लंबे कद के इस भारतीय तेज गेंदबाज ने अपने काउंटी डिवीजन वन में वारविकशायर के खिलाफ पांच विकेट के साथ शुरुआत की और खेल में सात विकेट लिए. सैनी ने लंकाशायर के खिलाफ एक और प्रभावशाली खेल के साथ शानदार प्रदर्शन किया और चार विकेट लिए. उन्होंने दो मैचों में 4.59 की इकॉनमी से 11 विकेट लिए.

शुभमन गिल

इस युवा बल्लेबाज ने पिछले महीने के अंत में काउंटी चैंपियनशिप के शेष सत्र के लिए ग्लेमोर्गन के साथ करार किया. वह वॉर्सेस्टरशायर के खिलाफ अपनी पहली पारी में सिर्फ आठ रन से अपना पहला काउंटी शतक बनाने से चूक गए. हालांकि मिडलसेक्स के खिलाफ मैच में प्रभावित करने में नाकाम रहे गिल की निगाहें अब मंगलवार को डर्बीशायर के खेल पर टिकी हैं.

मोहम्मद सिराज

अभी एक महीने पहले ही वार्विकशायर ने सिराज को काउंटी सीज़न के शेष भाग के लिए साइन किया. इस हफ्ते की शुरुआत में समरसेट के खिलाफ डेब्यू करते हुए उन्होंने पांच विकेट लिए और मैच का अंत छक्का लगाकर किया. सिराज के पास पहले से ही 2.85 की शानदार इकोनॉमी है, अगले मंगलवार को हैम्पशायर के खिलाफ खेलने के लिए तैयार है.

जयंत यादव

स्पिन-गेंदबाजी ऑलराउंडर भी इस महीने की शुरुआत में काउंटी क्रिकेट के बचे हुए सीजन के लिए वारविकशायर में शामिल हो गए. उन्होंने समरसेट के खिलाफ अपनी पहली पारी में तीन विकेट झटके.

मेघा मल्लिक

Leave a Reply

Your email address will not be published.