टाइट जींस पहनने, बाल रंगवाने की सजा जेल…ईरान में Moral Police टॉर्चर के 5 VIDEO

Women Protest In Iran

ईरान में महिलाओं का गुस्सा चरम पर है. 21वीं सदी में जहां महिलाएं नए इतिहास रच रही हैं, वहीं ईरान में वो क्या पहनेंगी, इसका फैसला भी सरकार कर रही है. 22 साल की महसा अमिनी (Mahsa Amini) की जान चली गई. कसूर! कट्टर सोच वालों के हिसाब से कपड़े ना पहनना. महसा को हिजाब ठीक ढंग से ना पहनने के जुर्म में गिरफ्तार कर लिया गया. उसे टॉर्चर किया गया और उसकी जान चली गई. महसा ना तो पहली महिला है और ना ही आखिरी. ईरान की सड़कों पर हर रोज सैकड़ों महिलाओं को ये तानाशाही झेलनी पड़ रही है.

गश्त-ए-इरशद (Moral Police) भेड़-बकरियों की तरह महिलाओं को वैन में ठूंस कर थाने ले जाती है. उन्हें बेइज्जत किया जाता है. यहां तक कि टॉर्चर किया जा रहा है. इसी ‘तानाशाही’ पुलिस के सूत्रों से कुछ साल पहले जो जानकारी मिली थी, वो बेहद चौंकाने वाली है. मार्च, 2013 से मार्च, 2014 के बीच 2,07,000 महिलाओं को ड्रेस कोड के उल्लंघन के आरोप में गिरफ्तार किया गया. यही नहीं इस एक साल में 20 लाख से ज्यादा महिलाओं को सही ढंग से हिजाब नहीं पहनने के आरोप में पहचाना गया. पुलिस को किसी के बालों का रंग पसंद नहीं आया तो किसी का मेकअप ज्यादा दिखा. किसी की जींस ज्यादा टाइट दिखी तो किसी के बुरके के बटन खुले मिले. अब इस जुल्म के खिलाफ महिलाओं ने आवाज बुलंद कर दी है. इस जंग में उनका हथियार बन रहा है स्मार्टफोन. गश्त-ए-इरशद के टॉर्चर को वे रिकॉर्ड कर रही हैं और फेसबुक पेज My Stealthy Freedom पर शेयर कर रही हैं.

19 साल की छात्रा की टाइट जींस से दिक्कत

पूर्वी तेहरान में 19 साल की एक छात्रा अपनी दोस्त के साथ घूम रही थी. अचानक से गश्त-ए-इरशद की वैन आई और उसे गिरफ्तार कर लिया. वाकये को बयां करते हुए उसने बताया, ‘मैं अपनी दोस्त के साथ जा रही थी. तभी वैन आकर रुकी. हथियारबंद तीन पुरुष अधिकारी, 3 महिला अधिकारी और एक जवान उतरा. मैंने जो पहना था, वो उन्हें पसंद नहीं आया. झूठ बोलकर वे थाने ले गए. बाद में कहा कि तुमने टाइट जींस पहनी हुई है.’ तीन घंटे तक उसे थाने में बैठाकर बेइज्जत किया गया.

गर्मी के चलते कोट का बटन खोला

एक महिला को सिर्फ इसलिए पकड़ लिया गया क्योंकि सबवे में उसने गर्मी से परेशान होकर अपने कोट का बटन खोल दिया था. महिला कहती रही कि उसे ऑफिस जाने के लिए देर हो रही है. मगर पुलिस ने एक ना सुनी. वह गिड़गिड़ाती रही.

वैन में ठूंसा जा रहा

हिजाब सही ढंग से ना पहनने के आरोप में एक छात्रा को पुलिस वैन में ठूंस दिया गया. वह कहती रही कि उसका एग्जाम है, लेकिन पुलिस के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी.

मां को ‘रौंद’ दिया

एक मां अपनी बीमार बेटी को पुलिस से बचाने के लिए वैन के आगे डट गई, लेकिन बेरहम पुलिसकर्मियों ने तब भी गाड़ी नहीं रोकी. मां कहती रही, ‘मेरी बेटी बीमार है, छोड़ दो उसे.’ लेकिन…

हर रोज सैकड़ों महिलाओं की गिरफ्तारी

ईरान में हर रोज सैकड़ों महिलाओं की गिरफ्तारी सिर्फ शरिया कानून के तहत कपड़े ना पहनने के आरोप में हो रही है.