जानिए वो बेहद बेशकीमती हीरा कौनसा है, जिसे अफ्रीका ब्रिटेन से वापस मांग रहा है?

Elizabeth Crown

ब्रिटेन की महारानी क्वीन एलिजाबेथ के निधन के बाद भारत में सोशल मीडिया पर मांग उठी थी कि भारत को अपना हीरा कोहिनूर वापस लेना चाहिए. लेकिन, क्या आप जानते हैं कि हीरा वापसी की डिमांड में सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि दक्षिण अफ्रीका भी शामिल है. दरअसल, अब दक्षिण अफ्रीका की ओर से अपना हीरा वापस करने की मांग की गई है. दरअसल, दक्षिण अफ्रीका का भी एक बेशकीमती हीरा ब्रिटेन के पास है, जिसे अब दक्षिण अफ्रीका वापस चाहता है.

ऐसे में सवाल है कि आखिर दक्षिण अफ्रीका का कौनसा हीरा है और यह कितना कीमती है कि अब अफ्रीका उसे वापस लेने की मांग कर रहा है. ऐसे में आज हम आपको बताते हैं कि दक्षिण अफ्रीका का वो हीरा कौनसा है और इसमें क्या खास है.

कौनसा है वो हीरा?

दक्षिण अफ्रीका की ओर से जिस हीरे की मांग की जा रही है, उसे ग्रेट स्टार ऑफ अफ्रीका के नाम से जाना जाता है. इसके अलावा इस बेशकीमती हीरे का नाम कलिनन भी है. यह एक बड़े हीरे का हिस्सा है, जो साल 1905 में दक्षिण अफ्रीका की एक खदान में से निकला था.

इस हीरे में क्या है खास?

यह हीरा दुनिया का सबसे बड़ा क्लियर कट डायमंड माना जाता है. यह काफी मेहनत से तराशा गया है और जिसे तरह से तराशा गया है, उसे बेहद खास माना जाता है. यह कलिनन की एक प्राइवेट माइन में मिला था, इस वजह से इसे कलिनन भी कहा जाता है. यह साउथ अफ्रीका का एक छोटा सा शहर है. ये हीरा 530.20 कैरेट का है और इसकी साइज 58.9mm x 45.4mm x 27.7mm है. ये कलरलैस बेहतरीन डायमंड है.

रॉयल कलेक्शन ट्रस्ट के अनुसार, यह पूरा डायमंड एक हार्ट के शेप का था, जो करीब 3106 कैरेट का था. इसे निकाले जाने के बाद इसे 1908 में एम्स्टर्डम के एस्चर भेजा गया और इसे नौ बड़े पत्थरों और 96 छोटे टुकड़ों में काट दिया गया. ये नौ छोटे डायमंड कलिनन 1 से 9 नाम से जाने जाते हैं. इसमें सबसे पत्थर पत्थर दक्षिण अफ्रीका की ट्रांसवाल सरकार ने खरीदा था और ब्रिटिश शासक को गिफ्ट किया था. बता दें कि उस वक्त अफ्रीका भी भारत की तरह ब्रिटेन के अधीन था.

ब्रिटेन को देने की क्या कहानी है?

20 वीं शताब्दी की शुरुआत में करीब 1907 के आसपास अफ्रीका ब्रिटिश सरकार का गुलाम था. उस वक्त दक्षिण अफ्रीका के औपनिवेशिक अधिकारियों ने इस कीमती हीरे को ब्रिटिश रॉयल फैमिली को सौंप दिया था. दक्षिण अफ्रीका की ओर से इसे किंग एडवर्ड VII को दिया गया था, जो दो साल पहले ही माइंस में से निकला था. कहा जाता है कि अब ये हीरा महारानी एलिजाबेथ की शाही छड़ी पर लगा हुआ है. ये भी कहा जाता है कि इसके रॉ डायमंड के और टुकड़े भी ब्रिटेन के पास हैं और कई लोगों की दलील है कि इसे ब्रिटेन को दिया नहीं गया था, जबकि इसे चुराया गया था.

और पढ़ें- नॉलेज की खबरें