जहांगीरपुरी हिंसा में एक और गिरफ्तारी, पकड़ा गया गुलाम रसूल उर्फ गुल्ली, दंगाई को पिस्तौल देने का आरोप

Delhi Police

दिल्ली पुलिस ने जहांगीरपुरी हिंसा (Jahangirpuri violence) मामले में गुलाम रसूल उर्फ गुल्ली नाम के एक व्यक्ति को हिंसा के एक आरोपी को पिस्तौल देने के आरोप में ‘ गिरफ्तार किया है (Accused Arrested). वहीं जहांगीरपुरी हिंसा कांड के आरोपित सोनू उर्फ ​​इमाम उर्फ ​​यूनुस को 4 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा है. सोनू को रोहिणी कोर्ट (Rohini Court) में पेश किया गया था.

वहीं हिंसा में शामिल पांच दोषियों पर कानूनी शिकंजा कस गया है. गृह मंत्रालय ने पांच आरोपियों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून यानी कि NSA लगाया गया है. यह जानकारी आधिकारिक सूत्र की तरफ से सामने आई है. हालांकि अब तक उन लोगों के नामों का खुलासा नहीं हुआ है.इधर दिल्ली के जहांगीरपुरी में हुई सांप्रदायिक हिंसा पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए जमीयत उलेमा-ए-हिंद (महमूद मदनी समूह) के अध्यक्ष मौलाना महमूद मदनी ने भड़काऊ नारे लगाने और हथियारों का प्रदर्शन करने वालों की गिरफ्तार की मंगलवार को मांग की.

मौलाना मदनी ने घटना की निष्पक्ष जांच की मांग की

मौलाना मदनी ने जहांगीरपुरी में हुई हिंसा को कानून-व्यवस्था की विफलता करार दिया और पूरी घटना की निष्पक्ष जांच की मांग की. उन्होंने कहा, जांच एजेंसियां को ईमानदारी से अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन करना चाहिए और पूरे मामले की तह तक पहुंचने का प्रयास करना चाहिए. जमीयत की ओर से जारी एक बयान में राज्यसभा के पूर्व सदस्य ने कहा, उन लोगों और समूहों की धरपकड़ की जरूरत है जो भड़काऊ नारे लगाते हैं और गैर कानूनी तरीके से हथियारों का प्रदर्शन करते हैं. उन्होंने दावा किया कि शनिवार को जहांगीरपुरी में सुबह से ही इस तरह की गतिविधियां होने के बावजूद पुलिस प्रशासन ने लापरवाही बरती और धार्मिक जुलूस में शामिल अराजक तत्वों पर काबू पाने में नाकाम रही जो निंदनीय है.

बातचीत के आधार पर किया दावा

जमीयत ने बयान में स्थानीय लोगों से बातचीत के आधार पर दावा किया है कि जब शाम में करीब छह बजे तीसरी बार धार्मिक जुलूस हुसैन चौक होते हुए यहां पहुंचा तो इसमें शामिल असमाजिक तत्वों ने मुसलमानों के खिलाफ कथित रूप से आपत्तिनजक नारे लगाए, जिसके बाद दोनों ओर से पथराव हुआ. बयान में आरोप लगाया गया है कि जुलूस में शामिल लोगों के पास हथियार थे.

Similar Posts