जब मुझे ये पता चला मैं पत्नी और बच्चों के सामने टूटकर रोया- संजय दत्त की जिंदगी का वो मनहूस दिन

संजय दत्त (Sanjay Dutt) ने अपने जीवन में कई उतार-चढ़ाव देखे हैं और वो अपने जीवन के उन दिनों के बारे में बात करने से कभी नहीं कतराते हैं। KGF 2 ऐक्टर ने हाल ही में अपने कैं’सर (Sanjay Dutt Cancer) के बारे में बात की और बताया कि इसके बारे में पता चलने के बाद वह कुछ घंटों तक खूब रोए। लेकिन इसके बाद उन्होंने इससे लड़’ने का फैसला कर लिया था।

YouTuber रणवीर अल्लाहबादिया से बात करते हुए संजय ने शेयर किया कि लॉक’डाउन के दौरान उनका इलाज चल रहा था और उनकी स्थिति के बारे में जानने के बाद शुरू में काफी काम किया गया था। उन्होंने कहा, ‘लॉक’डाउन में यह एक सामान्य दिन था। जब मैं सीढ़ियों से ऊपर चला गया, तो मेरी सांस पूरी तरह से थम चुकी थी।

मैंने नहाया था, मैं सांस नहीं ले पा रहा था, मुझे नहीं पता था कि क्या हो रहा है, इसलिए मैंने अपने डॉक्टर को फोन किया। एक्स-रे में मेरे आधे से अधिक फेफड़े पानी से ढके हुए थे। उन्हें पानी बाहर निकालना पड़ा। वे सभी उम्मीद कर रहे थे कि यह टी’बी है लेकिन यह कैंस’र निकला।’

इसके आगे उन्होंने बताया, ‘मेरे लिए इसे कैसे तोड़ा जाए, यह एक बड़ा मुद्दा था। तो मेरी बहन आई, मैं ऐसा था, ‘ठीक है, मुझे कैं’सर हो गया है, अब क्या?’ फिर तुम यह योजना बनाना शुरू करो, हम यह करेंगे और वह… लेकिन मैं दो-तीन घंटे रोया क्योंकि मैं अपने बच्चों और अपने जीवन और अपनी पत्नी और सब कुछ के बारे में सोच रहा था, ये चमकें आती हैं और मैंने कहा, मैं जा रहा हूं कमजोर होना बंद करो। पहले हमने फैसला किया अमेरिका में इलाज कराने का, लेकिन वीजा नहीं मिला, इसलिए मैंने कहा, मैं इसे यहीं करूंगा।

संजय ने फिर बताया कि कैसे परिवार ने उनके इलाज की योजना बनाई और कैसे फिल्म स्टार ऋतिक रोशन के पिता राकेश रोशन ने संजय के लिए डॉक्टर की सिफारिश की। उन्होंने कहा, ‘उन्होंने मुझसे कहा कि मेरे बाल झड़ जाएंगे और अन्य चीजें होंगी, मुझे उल्टी हो जाएगी, इसलिए मैंने डॉक्टर से कहा ‘मेरे को कुछ नहीं होगा’, मैं बाल नहीं खोऊंगा, मैं उल्टी नहीं करूंगा, मैं बिस्तर पर नहीं लेटूंगा और वह मुस्कुराए।

मैंने अपनी कीमो थेरेपी की और मैं वापस आया और मैं उस बाइक पर एक घंटे तक बैठा रहा, मैंने साइकिल चलाई, मैंने उस दिन हर काम किया। हर कीमो के बाद मैंने ऐसा किया। यह पागलपन था, मैं कीमो के लिए दुबई जाता था और फिर मैं बैडमिंटन कोर्ट जाता था और दो-तीन घंटे खेलता था।’

इसके बाद संजय ने बताया कि कैसे कैं’सर से लड़ने के लिए चुनौती देने की जरूरत है और कैसे उन्होंने खुद को वापस पाने के लिए फिटनेस का रास्ता अपनाया है। वो बोले, ‘इस तरह आप इस चीज़ को चुनौती देने जा रहे हैं। आज मुझे जिम जाते हुए दो महीने हो गए हैं, मैंने अच्छा वजन कम किया है। तुम्हें पता है कि संजय दत्त, मैं वह संजय दत्त वापस बनना चाहता हूं। मैंने खुद को जाने दिया, अब मैं नहीं जाऊंगा।’

The post जब मुझे ये पता चला मैं पत्नी और बच्चों के सामने टूटकर रोया- संजय दत्त की जिंदगी का वो मनहूस दिन first appeared on .

The post जब मुझे ये पता चला मैं पत्नी और बच्चों के सामने टूटकर रोया- संजय दत्त की जिंदगी का वो मनहूस दिन appeared first on .

Similar Posts