चोरी के लिए सीखी हैकिंग, अब Instagram ने दिया 43 लाख का इनाम, जानें क्यों?

नीरज शर्मा ने जिस बग को ढूंढा है, उसकी वजह से इंस्टाग्राम यूजर्स का अकाउंट हैक होने से बच गया. इसके लिए नीरज को लाखों रुपये का इनाम दिया गया.

सांकेतिक तस्वीर

Image Credit source: pexels

दुनियाभर में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम के लगभग दो अरब यूजर्स हैं. ऐसे में ये दुनिया के सबसे बड़े सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म में से एक है. हालांकि, इतना बड़ा प्लेटफॉर्म होते हुए भी इसमें एकाध ऐसे बग आ जाते हैं, जो यूजर्स के सिक्योरिटी के लिए खतरा होते हैं. इन बग को ढूंढना आसान नहीं होता है. लेकिन राजस्थान की राजधानी जयपुर के रहने वाले नीरज शर्मा ने एक ऐसे ही बग को इंस्टाग्राम में ढूंढ निकाला. नीरज के बग ढूंढने की वजह से इंस्टाग्राम यूजर्स का अकाउंट हैक होने से बच गया. वहीं, नीरज को इस काम के लिए 43 लाख रुपये का इनाम भी दिया गया.

दरअसल, 20 वर्षीय नीरज ने इंस्टाग्राम में जिस बग को ढूंढा था, उस बग की वजह से यूजर के अकाउंट में बिना लॉगिन आईडी और पासवर्ड के थंबनेल में बदलाव किया जा सकता था. हालांकि, समय रहते नीरज ने इस बग को ढूंढ लिया और फिर यूजर्स पर मंडरा रहा सिक्योरिटी का खतरा टल गया. वहीं, इंस्टाग्राम और फेसबुक को मालूम चला कि नीरज ने उनके प्लेटफॉर्म में इतनी बड़ी गलती का पता लगाया है, तो उन्होंने नीरज की बहुत तारीफ की. नीरज ने बग ढूंढने की इस कहानी को एक निजी अखबार को दिए एक इंटरव्यू में बताया है.

क्या था बग, जिसका नीरज ने पता लगाया?

नीरज ने बताया कि इंस्टाग्राम में एक ऐसा बग था, जिसके जरिए किसी भी यूजर के अकाउंट में जाकर थंबनेल को चेंज किया जा सकता था. इस काम को करने के लिए जरूरत थी तो सिर्फ रील की मीडिया आईडी की. उन्होंने कहा कि मीडिया आईडी के जरिए थंबनेल जैसे बदलावों को काफी आसानी से अंजाम दिया जा सकता था. इस बात से फर्क नहीं पड़ता है कि यूजर ने अपना पासवर्ड कितना स्ट्रॉन्ग बनाया हुआ है. उन्होंने बताया कि थंबनेल को मार्क जुकरबर्ग से लेकर इस प्लेटफॉर्म पर मौजूद सभी लोगों के अकाउंट में इस बदलाव को किया जा सकता था.

फेसबुक ने दिया लाखों रुपये का इनाम

वहीं, नीरज बताते हैं कि पिछले साल दिसंबर से ही मैं इंस्टाग्राम में गलतियां ढूंढने में जुट गया था. फिर 31 जनवरी की सुबह मुझे बग के बारे में पता चला. उन्होंने कहा कि दिनभर बग पर टेस्टिंग करने के बाद मैंने इसकी एक रिपोर्ट बनाई. फिर इस रिपोर्ट को मैंने फेसबुक को भेज दिया. फेसबुक ने तीन दिन बाद मुझे इस रिपोर्ट पर रिप्लाई दिया और मुझसे टेस्ट करने को कहा गया.

नीरज ने कहा कि पांच मिनट के भीतर ही मैंने थंबनेल चेंज कर दिया. जल्द ही मेरी रिपोर्ट को मंजूरी दी गई और फिर मुझे फेसबुक की तरफ से एक मेल मिला. इसमें मुझे 49,500 डॉलर दिए जाने की जानकारी मिली. हालांकि, मुझे रिवार्ड देने में देरी हुई, लेकिन इसके लिए मुझे 4500 डॉलर और दिए गए. इस तरह कुल मिलाकर 43 लाख रुपये दिए गए.

वाईफाई हैक करने के लिए सीखी हैकिंग

हैकिंग के बारे में बात करते हुए नीरज ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान मैंने अमेरिकन सीरीज मिस्टर रोबोट देखी और इसमें दिखाए गए हैकिंग के सीन से मैं काफी प्रभावित हुआ. इस दौरान मैंने अपने पड़ोसियों के वाईफाई को हैक करने का विचार बनाया. इसके पीछे की वजह से आसानी से इंटरनेट चलाना था. उन्होंने बताया कि वह ऑनलाइन ही वाईफाई को हैक करना सीखने लगे. हैकिंग को लेकर कई लोगों से बात की और फिर मुझे इसकी सफलता भी मिली, जब मैंने अपने पड़ोसी का वाईफाई हैक कर लिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.