गिरिराज सिंह ने जहांगीरपुरी में बुलडोजर एक्शन को बताया जायज, ओवैसी के आरोपों पर कहा- वो जिन्ना के DNA वाले लोग

Giriraj Singh

दिल्ली के जहांगीरपुरी में हनुमान जयंती पर हुई हिंसा (Jahangirpuri Violence) के बाद MCD के बुलडोजर एक्शन पर सियासत तेज हो गई है. असददुीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने कार्रवाई को गलत ठहराया है और इसे मुस्लिमों का उत्पीड़न बताया है. तो वहीं केंद्रीय मंत्री गिरिराज (Giriraj Singh) सिंह ने बुलडोजर एक्शन को सही ठहराया है. उन्होंने बुलडोजर एक्शन पर कहा है न्याय और कानून व्यवस्था सबके लिए बराबर होता है. कानून का राज अगर आप मानते हैं तो यह नहीं देखा जाता कि यह हिंदू पर चल रहा कि मुसलमान पर चल रहा. जिस समय आयुष्मान कार्ड मिलता है उसमें तो कोई नहीं कहता कि यह मोदी सरकार का ‘सबका साथ सबका विकास’ है.
एमसीडी की कार्रवाई पर उन्होंने कहा कि इस मामले में हिन्दू-मुस्लिम क्यों किया जा रहा है. पुलिस सिर्फ अपना काम कर रही है और कानून सबके लिए बराबर है. उन्होंने कहा कि कुछ लोग जिन्ना के डीएनए के हैं.

ओवैसी ने ट्वीट कर जताया था विरोध

दरअसल असददुीन ओवैसी ने जहांगीरपुरी में अवैध निर्माण पर एक्शन के खिलाफ ट्वीट कर बीजेपी पर निशाना साधा था. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि बीजेपी ने गरीबों के खिलाफ जंग छेड़ दी है, अतिक्रमण के नाम पर दिल्ली, यूपी और मध्य प्रदेश में उनके घर तोड़े जा रहे हैं. न कोई नोटिस, न ही कोर्ट में दलील का विकल्प, सीधे गरीब मुस्लिमों को सजा दी जा रही है.

‘जिन्ना के डीएनए के लोग हैं’

असददुीन ओवैसी के इस बयान पर ही प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कानून अपना काम करे और जो अवैध निर्माण है उस पर निश्चित रूप से कार्रवाई करे, गिरिराज सिंह ने कहा कि मैं तो यही कहूंगा कानून का काम होना चाहिए जिसकी तारीफ होनी चाहिए. ओवैसी जैसे लोग हर चीज में हिंदू और मुसलमान करते हैं क्योंकि ये तो जिन्ना के डीएनए के लोग हैं,

‘क्या पाकिस्तान में निकाला जाए जुलूस’

इससे पहले मंगलवार केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने बिहार के कटिहार में असददुीन ओवैसी के उस बयान पर भी प्रतिक्रिया दी जिसमें उन्होंने कहा था मुस्लिम बहुल इलाकों में जुलूस निकालने से परहेज करनी चाहिए. इसपर गिरिराज सिंह ने कहा कि रामनवमी का जुलूस अगर अपने देश में नहीं निकाला जाए तो क्या? या फिर पाकिस्तान, बांग्लादेश या अफगानिस्तान निकाला जाए? उन्होंने कहा कि तबाह और बर्बाद करने की नियत जिनके पास है, वह जिन्ना के डीएनए वाले हैं. यह अब देश में नहीं चलेगा. भारत में हमारी जो टॉलरेंस है, टॉलरेंस की कोई परीक्षा ना ले. परीक्षा लेने का समय बीत रहा है.

Similar Posts