कोलकाता के इस दुर्गा पूजा पंडाल में महिलाओं को सिखाएं जाएंगे आत्मरक्षा के गुर, दी जाएगी ट्रेनिंग

Kolkata Durga Puja 2022: कोलकाता के दुर्गा पूजा पंडाल 66 पल्ली में पिछले साल चार महिला पुजारियों ने पहली बार पूजा की थी. इस साल इस पूजा कमेटी की ओर से महिलाओं को आत्मरक्षा के गुर सिखाए जाएंगे.

फोटोः दुर्गा पूजा में में आत्मरक्षा के सिखाए जाएंगे गुर.

Image Credit source: Social Media

पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा की तैयारियां जोरों से चल रही हैं. प्रत्येक पूजा पंडाल को इस दौरान अलग-अलग थीम से सजाया जाता है. पिछले साल कोलकाता में 66 पल्ली पूजा कमेटी की ओर से दुर्गा पूजा में पहली बार 4 महिला पुजारियों ने पूजा की थी. इस साल महिला सशक्तीकरण और महिलाओं की शारीरिक और मानसिक शक्तियां मजबूत करने और उन्हें जागरुक बनाने के लिए पहल की गई है. दुर्गा पूजा के दौरान न केवल कोलकाता में बल्कि दुर्गापुर और सिलीगुड़ी में महिलाओं को आत्मरक्षा के गुर सिखाए जाएंगे.

दुर्गा पूजा के बहुप्रतीक्षित उत्सव से पहले एक म्यूज़िक वीडियो सनराईज दुर्गोतिनाशिनी लॉन्च किया गया. मशहूर बंगाली गायिका लोपामुद्रा मित्रा द्वारा गाए गए इस म्यूजिक वीडियो में मशहूर अभिनेत्री मुमताज सोरकार को दिखाया गया है. इस वीडियो को प्रोफेशनल्स ने कोरियाग्राफ किया है और इसका मार्गदर्शन आत्मरक्षा विशेषज्ञ गौरव गोस्वामी ने किया है.

चार महिला बाईकर्स द्वारा किया जाएगा प्रचार

दुर्गोतिनाशिनी के कॉन्सेप्ट को ध्यान में रखते हुए चार महिला बाईकर्स का दल कोलकाता शहर में इसका प्रचार करेगा. इस वीडियो में महिलाओं को आत्मरक्षा के सत्र के लिए नामांकन कराने का प्रोत्साहन दिया गया है, जो इस साल दुर्गा पूजा के दौरान 66 पल्ली में आयोजित होगा. इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में सैद्धांतिक और व्यवहारिक प्रशिक्षण का मिश्रण होगा. कार्यशाला के दौरान आत्मरक्षा विशेषज्ञ दर्शकों को तकनीकों का प्रदर्शन करेंगे और उन्हें मंच पर इनका प्रदर्शन करने को बुलाकर इन अद्वितीय तरीकों का अनुभव हाथोंहाथ प्रदान करेंगे. इस प्रशिक्षण द्वारा महिलाओं को जवाबी हमला करना और इमरजेंसी होने पर भागकर खुद को बचाना सिखाया जाएगा.

ये भी पढ़ें



महिला सशक्तिकरण और आत्मरक्षा पर होगा जोर

इस अभियान के बारे में पीयूष मिश्रा (बिज़नेस हेड,आईटीसी सनराईज़) ने कहा, ” पिछले सालों में हम अपने महिला सशक्तीकरण अभियानों द्वारा महिलाओं को सशक्त बनाते आए हैं और इस साल हमने आत्मरक्षा का प्रशिक्षण देकर उनकी शारीरिक और मानसिक शक्ति बढ़ाने का निर्णय लिया है. इस कार्यक्रम की जागरुकता बढ़ाने की ओर हमारा पहला कदम है. यह कार्यक्रम माता दुर्गा और महिषासुर पर उनकी विजय से प्रेरित है. इस म्यूज़िक वीडियो द्वारा माता दुर्गा की भांति ही महिलाओं को आत्मरक्षा में समर्थ बनाने पर बल दे रहा है. दुर्गा पूजा के दौरान महिला सशक्तीकरण पर हमारी नई रचनात्मक अभिव्यक्ति में विभिन्न डांस फॉर्म्स द्वारा आत्मरक्षा का प्रशिक्षण दिया जा रहा है, जो इस दिशा में एक और प्रयास है.”

Leave a Reply

Your email address will not be published.