कोरोना काल में घर में रहने और मोबाइल चलाने से टूटे पति पत्नी के रिश्ते, झांसी में सामने आए एक हजार से ज्यादा घरेलू हिंसा के मामले

Umang App Voice Command

कोरोना काल (Covid Pandemic) में वर्क फ्रॉम होम (Work From Home) और मोबाइल के अधिक उपयोग ने पति-पत्नी के आपसी रिश्तों (Husband-Wife Relation) पर नकारात्मक असर डाला है. पिछले तीन सालों में झांसी (Jhansi) के जिला प्रोबेशन अधिकारी कार्यालय में घरेलू हिंसा (Domestic Violence) सहित अन्य तरह के एक हजार से अधिक मामले आये हैं. आलम यह है कि अधिकांश मामलों में पति-पत्नी एक-दूसरे के साथ रहने को तैयार नहीं हैं. जिला प्रोबेशन अधिकारी का कार्यालय प्रयास में है कि इन मामलों में सुलह हो जाये और पति-पत्नी एक साथ रहने लगे. लेकिन किसी भी मामले में समझौता नहीं हो सका है और ज्यादातर मामले कोर्ट (Court) पहुंच चुके हैं.

विवाद की सुनवाई के दौरान सामने आया कि वर्क फ्रॉम होम के कारण पति-पत्नी के सम्बन्धों पर गहरा असर पड़ा है. इसके अलावा मोबाइल के कारण पति-पत्नी का एक-दूसरे को समय न देना, घण्टो ऑनलाइन रहना, पासवर्ड छिपाना सहित कई अन्य कारण है, जो सम्बन्धों में दरार पैदा कर रहे हैं. इन सब मामलों में ज्यादातर में घरेलू हिंसा अधिनियम के तहत केस दर्ज कराए जा रहे हैं. केस दर्ज होने के बाद अधिकांश मामलों में प्रोबेशन अधिकारी कार्यालय दोनों पक्षों में सुलह के प्रयास करता है.

2018 से 2022 तक झांसी में सामने आए घरेलू हिंसा के 1075 मामले

विभागीय आंकड़ों के मुताबिक 2018-2019 से लेकर अप्रैल 2022 तक झांसी में घरेलू हिंसा के 1075 मामले सामने आये हैं. काउंसलिंग के अलावा आशा ज्योति केंद्र भी इन मामलों को भेजा जाता है. हैरत की बात यह है कि किसी भी मामले में समझौता नहीं हो सका है और ज्यादातर मामले कोर्ट पहुंच चुके हैं. जिला प्रोबेशन अधिकारी नंदलाल सिंह कहते हैं कि कोरोना काल शुरू होने के बाद से तमाम ऐसे केस सामने आए हैं.

ज्यादातर मामलों में नहीं मिली सफलता

पति-पत्नी में समझौता कराने की कोशिशें की गईं लेकिन ज्यादातर मामलों में सफलता नहीं मिली. बता दें कि कोरोना के चलते लॉकडाउन के दौरान सभी लोग घर पर रहते थे, इसके चलते परिवार में पति-पत्नि के बीच लड़ाई-झगड़े के मामले बढ़े थे. अब एक बार फिर देश समेत कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी देखी जा रही है. जिसके बाद प्रदेश सरकार को केंद्र सरकार ने अलर्ट किया. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों को दूसरी बार पत्र भेजकर अलर्ट किया है. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने मंगलवार को हरियाणा, दिल्ली, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और मिजोरम को पत्र लिख कर सतर्क किया है. इन पांच राज्यों में कोविड पॉजिटिविटी रेट बढ़ रहा है.

Similar Posts