कन्हैयालाल हत्याकांड: जहां गला काटा वहीं हत्यारों ने उगले राज, NIA ने रिक्रिएट किया सीन

28 जून को उदयपुर के मालदास स्ट्रीट में सुप्रीम टेलर्स के संचालक कन्हैयालाल की धारदार हथियार से गला काटकर हत्या कर दी गई थी. इस दौरान मोहम्मद गौस और रियाज अत्तारी ने हत्या का लाइव वीडियो भी बनाया था.

आरोपियों से एनआईए की पूछताछ जारी. (फाइल फोटो)

राजस्थान के उदयपुर में दर्जी कन्हैयालाल की हत्या के मामले में एनआईए टीम की पूछताछ जारी है. इससे पहले एनआईए टीम ने शनिवार सुबह घटनास्थल पर जाकर सीन रीक्रिएट किया था. इस दौरान दोनों मुख्य आरोपी भी साथ में मौजूद थे. फिलहाल दोनों से पूछताछ की जा रही है. पूछताछ में मुख्य आरोपी मोहम्मद रियाज अत्तारी और गौस मोहम्मद ने बताया कि कन्हैया लाल की हत्या से पहले 16 दिन तक रेकी की थी.

जानकारी के अनुसार एनआईए ने दोनों से कन्हैया लाल की दुकान में 28 मिनट तक कड़ी पूछताछ की थी. दोनों ने बताया कि उन्होंने 13 से 28 जून तक कन्हैया लाल की रेकी की थी. उन्होंने बताया कि रेकी के दौरान कन्हैयालाल के कौन-कौन कट्टर समर्थक हैं, इसकी भी जानकारी जुटाई गई थी.

28 जून को हुई थी आखिरी रेकी

मोहम्मद रियाज अत्तारी और गौस मोहम्मद ने बताया कि आखिरी रेकी 28 जून को सुबह 11:00 बजे की गई थी. इसके बाद वह दोपहर 3:30 बजे झब्बा- पजामा सिलवाने दुकान में घुसे थे. इस दौरान जब
कन्हैयालाल नाप लेने में मशगूल हुआ तो उन्होंने दो बड़े छुरों से गर्दन कटने तक 26 वार किए थे.

हत्या के बाद घटनास्थल पर लाए गए आरोपी

दरअसल शनिवार तड़के एनआईए टीम दोनों आरोपियों को लेकर मालदास स्ट्रीट में पहुंची थी. यहीं आरोपी रियाज और गौस ने दुकान में घुसकर कन्हैयालाल की गला रेतकर हत्या की थी. मौके पर से आरोपियों से रूट और कई चीजों पर मार्किंग हुई. कन्हैयालाल की हत्या के आरोपियों को दो अलग-अलग गाड़ियों में लेकर एनआईए टीमें पहुंची थीं. इस दौरान एनआईए के एसपी रवि समेत करीब आधा दर्जन बड़े अधिकारी मौके पर मौजूद थे. वहीं उदयपुर पुलिस भी पूरी तरह अलर्ट थी. बता दें कि 28 जून को कन्हैयालाल की हत्या के बाद से आरोपियों को मौके पर नहीं ले जाया गया था. आरोपी अजमेर की हाई सिक्योरिटी जेल में बंद थे.

ये भी पढ़ें



हत्या का लाइव वीडियो बनाकर किया पोस्ट

28 जून को ही उदयपुर के मालदास स्ट्रीट में सुप्रीम टेलर्स के संचालक कन्हैयालाल की धारदार हथियार से गला काटकर हत्या कर दी गई थी. इस दौरान मोहम्मद गौस और रियाज अत्तारी ने हत्या का लाइव वीडियो भी बनाया था. साथ ही हत्या की जिम्मेदारी भी ली थी. इस घटना के बाद पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था. बाद में यह केस एनआईए को सौंप दिया गया. फिलहाल इस मामले में 9 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.