एक दिव्यांग बच्चे को बचाने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार की दिल्ली में हुई सराहना, 104 घंटे तक 80 फीट गहरे बोरवेल में अकेले था मासूम

Central Disabled Advisory Board

नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित केंद्रीय दिव्यांग सलाहकार बोर्ड की बैठक में छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की समाज कल्याण विभाग की मंत्री अनिला भेंड़िया ने शिरकत की. इस मौके पर बोर्ड के सदस्यों द्वारा 104 घंटे तक 80 फीट गहरे बोरवेल में गिरे एक दिव्यांग बच्चे के प्रति संवेदनशीलता दिखाते हुए उसे बचाने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से की गई पहल की सराहना की गई. बैठक में मंत्री भेंड़िया ने जिला पुनर्वास केन्द्रों को जिला चिकित्सालय के अनुरूप विकसित करने, कोरोना से प्रभावित दिव्यांगजनों के ऋण माफ करने सहित अन्य मुद्दों की ओर बोर्ड का ध्यान आकर्षित कराया. सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा आयोजित बैठक की अध्यक्षता केंद्रीय मंत्री डॉ वीरेंद्र कुमार ने की. इस मौके पर विभिन्न राज्यों के मंत्री भी उपस्थित रहे.

बोर्ड की बैठक में मंत्री श्रीमती अनिला भेंड़िया ने कहा कि जिला पुनर्वास केंद्र दिव्यांगजनों के सर्वांगीण विकास के लिए अत्यंत संवेदनशील व आवश्यक संस्थान है. इसे जिला चिकित्सालय के अनुरूप विकसित करने की आवश्यकता है. उन्होंने कहा अगर केंद्र सरकार सहयोग देती है तो इसके लिए राज्य शासन निशुल्क भूमि और संसाधन उपलब्ध कराएगी.

मंत्री ने दबाव डालकर ऋण की वसूली का मुद्दा बैठक में उठाया

बैठक में मंत्री अनिला भेंड़िया ने दिव्यांगजनों से दबाव डालकर ऋण की राशि वसूलने का मुद्दा भी उठाया. उन्होंने कहा कि कोविड जैसी आपदा में कई दिव्यांगजनों के रोजगार प्रभावित हुए हैं. नेशनल हैंडीकैप्ड फाइनेंशियल डेवलपमेंट कारपोरेशन द्वारा राज्य एजेंसियों पर दबाव बनाकर राशि की वसूली की जा रही है. ऐसे प्रकरण में उन्होंने ऋण राशि समाप्त किए जाने की मांग की.

मंत्री ने कहा- अधिक से अधिक कार्यशालाओं का आयोजन कराया जाए

मंत्री भेंड़िया ने जानकारी दी कि दिव्यांगजनों के लिए सार्वजनिक स्थलों को सुगम बनाने के लिए प्रदेश की राजधानी में 100 से अधिक सार्वजनिक भवनों को बाधा रहित बनाया गया है. नया रायपुर को दिव्यांगजनों के लिए पूर्णत बाधारहित विकसित किया गया है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारों के साथ विभिन्न योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए राज्य शासन के समन्वय से अधिक से अधिक कार्यशालाओं का आयोजन कराया जाए, ताकि प्रदेश के दिव्यांग जनों को इसका अधिक लाभ मिल सके. बैठक में छत्तीसगढ़ से समाज कल्याण विभाग के अधिकारी राजेश तिवारी सहित अन्य शामिल रहे.

Similar Posts