उत्तराखंड में 74 तबादलों पर विवाद, CM धामी ने मंत्री के आदेश पर लगाई रोक

Cm Pushkar Dhami

उत्तराखंड में एक बार फिर शहरी विकास मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल के एक तबादला आदेश पर बड़ा विवाद खड़ा हो गया है. रविवार को मंत्री अग्रवाल ने अपने विभाग में 74 अधिकारियों के तबादला आदेश जारी कर दिया. इसके बाद वह खुद जर्मनी रवाना हो गए. इधर, जैसे ही तबादलों की यह फाइल मंजूरी के लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की टेबल पर पहुंची, बवाल मच गया. मुख्यमंत्री ने तुरंत शहरी विकास सचिव को तलब किया और मंत्री द्वारा जारी तबादलों के आदेश पर रोक लगा दी.

बता दें कि पहले ही शहरी विकास मंत्री विधानसभा में बैकडोर एंट्री को लेकर विवादों के घेरे में हैं. ऐसे में उन्होंने अचानक अपने विभाग में बड़े स्तर पर तबादला आदेश जारी कर नया विवाद खड़ा कर दिया है. शहरी विकास मंत्रालय से मिले इनपुट के मुताबिक मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने रातोरात आदेश जारी किया और इसके तुरंत बाद अपर मुख्य सचिव आनंद वर्धन के साथ जर्मनी रवाना हो गए. अगले दिन तबादलों की यह फाइल मंजूरी के लिए जब सीएम पुष्कर सिंह धामी के कार्यालय में भेजी गई तो इसे देखते ही मुख्यमंत्री विफर पड़े. उन्होंने कड़ी नाराजगी जताते हुए शहरी विकास सचिव दीपेंद्र चौधरी को तलब कर लिया. बताया जा रहा है कि इसी दौरान उन्होंने तबादलों पर रोक लगाते हुए बिना पूछे कोई तबादला आदेश जारी नहीं करने को कहा.

तबादला आदेश को लेकर कानाफूंसी तेज

शहरी विकास मंत्रालय में बड़े पैमाने पर तबादले के इस आदेश की जानकारी मिलते ही केवल शहरी विकास विभाग में नहीं, बल्कि अन्य विभागों में भी कानाफूंसी तेज हो गई है. खासतौर पर रातोरात और अचानक जारी इस आदेश को लेकर सवाल भी उठाए जा रहे हैं. आशंका जताई जा रही है कि इस प्रकरण को लेकर मुख्यमंत्री की नाराजगी कहीं मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल पर भारी ना पड़ जाए.

कचरा प्रबंधन प्रोजेक्ट के तहत जर्मनी गए हैं मंत्री

शहरी विकास मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल और अपर मुख्य सचिव आनंद वर्धन कचरा प्रबंधन प्रोजेक्ट के संबंध में जर्मनी गए हैं. इस प्रोजेक्ट को लेकर वहां एक कार्यक्रम में शामिल होने साथ वह उत्तराखंड और जर्मनी के बीच कचरा प्रबंधन संबंधी जानकारियों को साझा करेंगे. इस प्रोजेक्ट पर आने वाला पूरा खर्च कचरा प्रबंधन के लिए काम कर रही कंपनी जीआईजेड वहन कर रही है.