इस राज्य ने CUET को कहा- NO! यहां के कॉलेजों में बिना सीयूईटी मिलेगा एडमिशन

Admission

देशभर की सेंट्रल यूनिवर्सिटीज और कई राज्यों में स्टेट यूनिवर्सिटीज में इस साल अंडरग्रेजुएट कोर्सेज में एडमिशन CUET Score के आधार पर एडमिशन दिया जाएगा. हालांकि, एक राज्य में स्टेट यूनिवर्सिटीज ऐसी भी हैं, जहां CUET के आधार पर एडमिशन नहीं दिया जाएगा. ये राज्य है पश्चिम बंगाल, जहां पर किसी भी स्टेट यूनिवर्सिटी ने अंडरग्रेजुएट कोर्सेज में स्टूडेंट्स को एडमिशन देने के लिए कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट (CUET) को नहीं अपनाया है. West Bengal के अधिकारियों ने रविवार को इसकी जानकारी दी. माना जा रहा है कि अब ये मामला तूल पकड़ सकता है.

डायमंड हार्बर वुमेन यूनिवर्सिटी की वाइस-चांसलर सोमा बंद्योपाध्याय ने कहा, ‘हमने स्टेट हायर एजुकेशन डिपार्टमेंट के निर्देशानुसार एंट्रेंस एग्जाम आयोजित किया.’ उन्होंने कहा, ‘स्टेट यूनिवर्सिटी होने के नाते हमने प्रदेश के हायर एजुकेशन डिपार्टमेंट के निर्देशानुसार एडमिशन का नियम बनाया है. CUET के तरीके से प्रवेश लेने का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता.’

यादवपुर यूनिवर्सिटी ने क्या कहा?

यादवपुर यूनिवर्सिटी शिक्षक संघ के प्रवक्ता पार्थ प्रतिम रॉय ने कहा कि यूनिवर्सिटी ने विभिन्न डिपार्टमेंट के लिए अंडरग्रेजुएट कोर्सेज के लिए अपना एंट्रेंस एग्जाम आयोजित किया. पार्थ प्रतिम रॉय ने कहा, ‘यादवपुर यूनिवर्सिटी उच्च स्तरीय प्रवेश प्रक्रिया अपनाता है, इसलिए हम किसी भी तरह सीयूईटी को नहीं अपना सकते. जेयू की इस एडमिशन प्रोसेस की वजह साइंस, आर्ट्स और इंजीनियरिंग समेत सभी विषयों में हमारा उच्च अकादमिक स्तर बरकरार है. सीयूईटी माध्यम जेयू पर लागू नहीं होता.’

इन यूनिवर्सिटीज ने भी नहीं अपनाया CUET

निजी संस्थान सेंट जेवियर यूनिवर्सिटी ने भी इस साल अपने एंट्रेंस एग्जाम ऑफलाइन तरीके से आयोजित कीं. कुलपति फिलिक्स राज ने कहा, ‘हम सीयूएटी के माध्यम से प्रवेश नहीं लेते.’ प्रेसिडेंसी यूनिवर्सिटी, विद्यासागर यूनिवर्सिटी, वर्धमान यूनिवर्सिटी, मौलाना अबुल कलाम आजाद यूनिवर्सिटी, नॉर्थ बंगाल यूनिवर्सिटी तथा पश्चिम बंगाल टेक्निकल यूनिवर्सिटी ने भी कहा कि उन्होंने राज्य के हायर एजुकेशन डिपार्टमेंट के निर्देशानुसार अपना एडमिशन प्रोसेस अपनाया.

अधिकारियों ने कहा कि स्टेट यूनिवर्सिटी के लिए काउंसलिंग के लिए सीयूईटी-यूजी मेरिट लिस्ट नहीं बनाई गई है. विश्व भारती यूनिवर्सिटी के एक प्रवक्ता ने कहा कि सेंट्रल यूनिवर्सिटीज होने के नाते उन्होंने सीयूईटी स्कोर को अपनाया है.

(भाषा इनपुट के साथ)