इजरायल का ये खतरनाक हथियार लेजर लाइट से ही ध्वस्त कर देगा बड़े-बड़े मिसाइल, खर्च 300 रुपये से भी कम… भारत भी खरीद सकेगा!

Israel New Advanced Weapon

रूस-यूक्रेन युद्ध (Russia Ukraine War) के बीच अन्य देश भी अपने डिफेंस को मजबूत करने में लगे हुए हैं. अमेरिका हो या चीन या फिर फ्रांस, सभी देश अपनी ताकत बढ़ाने में लगे हैं. इस बीच इजरायल ने एक नया हथियार तैयार कर लिया है. जी हां, हाल ही में इजरायल (Israel) ने दुनिया के पहले लेजर मिसाइल डिफेंस सिस्टम (Israel New Advanced Weapon) का परीक्षण किया है, जो सफल रहा है. इस सिस्टम के जरिये ड्रोन, मोर्टार और रॉकेट समेत एंटी-टैंक मिसाइलों को एक ही झटके में तबाह किया जा सकता है. इस ​डिफेंस सिस्टम के जरिये एक हमले का खर्च भी बेहद कम पड़ता है. इस सिस्टम को इजरायल की हाईटेक डिफेंस एजेंसी राफेल एडवांस्ड सिस्टम्स (Rafale Advanced Defense Systems) ने तैयार किया है. पिछले दिनों इजरायल के प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट ने ट्विटर अकाउंट पर इस नए एडवांस डिफेंस सिस्टम का वीडियो शेयर किया है.

वीडियो शेयर कर बेनेट ने कहा है कि इजरायल ने नए आयरन बीम लेजर इंटरसेप्शन सिस्टम का परीक्षण सफल रहा है. यह दुनिया का पहला एनर्जी बेस्ड वेपन सिस्टम है, जो एक लेजर की मदद से रॉकेट और मोर्टार समेत मिसाइल्स को भी मार गिरा सकता है. बताया जा रहा है कि इस सिस्टम से एक वार यानी हमले का खर्च महज 3.50 डॉलर यानी करीब 270 रुपये आने वाला है. इजरायल, भारत का बेहद ही करीबी दोस्त है. ऐसे में यह भारत के लिए भी ये एक अच्छी खबर है, क्योंकि भारत आने वाले दिनों में इजरायल से यह मिसाइल डिफेंस सिस्टम खरीद सकता है.

कब तक पूरी तरह तैयार होगा?

इजरायल का रक्षा मंत्रालय कई सालों से इस लेजर आधारित डिफेंस सिस्टम का परीक्षण करता आ रहा है. पिछले साल इसी सिस्टम ने एक ड्रोन को मार गिराया था. हाल ही में इसका एंटी-टैंक मिसाइल के खिलाफ भी परीक्षण किया गया, जो सफल रहा. रिसर्च और डेवलपमेंट डिपार्टमेंट ने ने पहले वर्ष 2024 तक इस इस एंटी-मिसाइल सिस्टम को तैनात करने की योजना बनाई थी. हालांकि इजरायल की आर्मी ने इसे जल्दी तैयार करने की आवश्यकता बताई थी, जिसके बाद पीएम नफ्ताली बेनेट ने फरवरी में घोषणा कर दी कि इसी साल यह सिस्टम तैनात किया जाएगा. रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, यह वॉर सिस्टम बेहद कारगर है, आसानी से इस्तेमाल किये जाने लायक है और बेहद सस्ता भी है.

किससे मुकाबले की तैयारी?

इजरायल के कट्टर दुश्मनों में ईरान और हमास का नाम आता है, जिससे मुकाबला करने के लिए इजरायल अपना डिफेंस सिस्टम मजबूत कर रहा है. बता दें कि पिछले साल मई में ही इजरायल और गाजा के बीच 11 दिन तक युद्ध चला था. इस दौरान गाजा के सत्तारूढ़ हमास आतंकवादी समूह ने इजरायल पर 4000 से अधिक रॉकेट दागे थे. अब इस युद्ध की वर्षगांठ के करीब इजरायल ने इस नए वॉर सिस्टम के सफल परीक्षण की घोषणा कर दी है.

Similar Posts