आज राष्ट्रपति पद के लिए नामांकन भरेंगीं द्रौपदी मुर्मू… जानिए इसके फॉर्म में क्या-क्या जानकारी देनी होती है?

Draupadi Murmu

राष्ट्रपति पद के लिए चुनावों की तारीखों का ऐलान हो गया है. चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद आज यानी शुक्रवार को एनडीए प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने जा रही हैं. राष्ट्रपति चुनाव अन्य आम चुनावों से काफी अलग होता है, जिसमें नामांकन प्रक्रिया से लेकर वोट देने का तरीका, उनकी गिनती, उनकी वैल्यू सभी अलग होती है. अभी नामांकन की प्रकिया शुरू हो गई है, जो भी उम्मीदवार चुनाव में खड़े होना चाहते हैं, वो अभी नामांकन भर कर सकते हैं. तो ऐसे में जनाना जरूरी है कि आखिर राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए किस तरह नामांकन किया जा सकता है.

ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि राष्ट्रपति पद का चुनाव कैसे होता है और किस तरह से चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करना होता है. तो आज हम आपको बताते हैं कि राष्ट्रपति चुनाव के लिए जब नामांकन दाखिल किया जाता है तो किन शर्तों को फॉलो करना होता है…

कौन भर सकता है फॉर्म?

यह बात तो सच है कि राष्ट्रपति पद के चुनाव में कोई भी व्यक्ति खड़ा हो सकता है, लेकिन इसकी कुछ शर्तें ऐसी हैं, जिन्हें पूरी करना काफी मुश्किल है. इस प्रक्रिया में नॉमिनेशन फॉर्म-2 ऐसा फॉर्म होता है, जिसे हर कोई नहीं भर पाता है और इस वजह से राष्ट्रपति चुनाव नहीं लड़ पाता है. ऐसे में पहले आपको बता दें कि कौन इस पद के लिए फॉर्म भर सकता है. आर्टिकल 58 के अनुसार, राष्ट्रपति चुनाव भारत को वो हर व्यक्ति लड़ सकता है, जिसकी उम्र 35 साल से ज्यादा हो. वो लोकसबा का सदस्य होने के लिए पात्र हो. इसके साथ ही भारत सरकार के या किसी राज्य की सरकार के अधीन या उक्त किसी भी सरकार नियंत्रण में किसी स्थानीय या अन्य प्राधिकरण के अधीन लाभ के किसी भी पद का धारण नहीं करना चाहिए. इसके अलावा फॉर्म-2 भरना होगा.

फॉर्म 2 की क्या होती है शर्तें?

फॉर्म-2 में आपको चुनाव लड़ने के इच्छुक उम्मीदवार को कम से कम पचास निर्वाचकों यानी विधायक या सांसदों को समर्थन होना आवश्यक है. अगर आप भी राष्ट्रपति का चुनाव लड़ना चाहते हैं तो आपको निर्वाचकों का प्रस्तावकों या अनुमोदकों के रूप में समर्थन चाहिए. इसके बाद इसे प्रस्तावक को नियुक्त रिटर्निंग अधिकारी को जमा करना होगा. चुनाव लड़ने के लिए 15000 रुपये की जमानत राशि भी देनी होती है. बता दें कि राष्ट्रपति चुनाव में एक निर्वाचक सिर्फ एक ही अभ्यर्थी के नाम का प्रस्ताव दे सकता है. ऐसा नहीं है कि वो कई उम्मीदवारों का अनुमोदन कर दे.

कैसा होता है फॉर्म?

President

कौन हैं द्रौपदी मुर्मू?

आदिवासी परिवार में जन्मीं द्रौपदी मुर्मू का जीवन संघर्षभरा रहा है. द्रौपदी मुर्मू के राजनीतिक कॅरियर की शुरुआत रायरंगपुर NAC के वाइस-चेयरमैन के तौर पर हुई. इसके बाद 1997 भाजपा के राज्य ST मोर्चा की वाइस प्रेसिडेंट बनीं. ओडिशा की रायरंगपुर विधानसभा सीट से विधायक बनीं और स्वतंत्र प्रभार मंत्री बनीं. फिर 2004 से 2009 तक द्रौपदी मुर्मू दोबारा विधायक बनीं. इसके बाद कई अहम पदों पर रहते हुए 2015 में द्रौपदी मुर्मू ओडिशा की पहली आदिवासी और महिला राज्यपाल बनीं.

Similar Posts