अमेरिका में 81 साल के डॉक्टर एंथनी फाउची ने कोरोना को दी मात, व्हाइट हाउस में एक सम्मेलन के दौरान हुए थे संक्रमित

अमेरिकी डॉक्टर एंथनी फाउची

अमेरिका कोविड-19 (covid-19) से बचाव के लिए टीकाकरण अभियान की प्रक्रिया को पूरा करने के लिए चरणबद्ध तरीके से काम कर रहा है. टीकाकरण अभियान को पूरा करने के लिए लोगों का सहयोग भी मिल रहा है. अमेरिका (America) प्रशासन ने टीका पात्रता के लिए उम्र सीमा में विस्तार किया है. कोरोना वायरस संक्रमण से लोगों को बचाने के लिए अलग-अलग देशों में टीकाकरण अभियान शुरू किया गया है. वैक्सीन की कमी के कारण कई देशों में अभी टीकाकरण को पूरा नहीं किया जा सका है. अमेरिका ने हाल ही में छह महीने के बच्चों के लिए टीकाकरण शुरु किया है जिसका अमेरिकी लोगों द्वारा समर्थन किया गया है. अमेरिका के एक वरिष्ठ डॉक्टर ने कहा कि कोविड-19 जैसे गंभीर बीमारी और जोखिम से बचने के लिए कोविड-19 का टीका और बूस्टर खुराक अत्यधिक प्रभावशाली है.

अमेरिकी डॉक्टर ने कहा टीका लगवाना गलत नहीं

अमेरिका में संक्रामक रोगों का इलाज करने वाले एक वरिष्ठ डॉक्टर हाल ही में कोविड-19 से संक्रमित हो गए थे. संक्रमित होने के बाद उन्होंने टीका और बूस्टर खुराक ली, लेकिन इसके बाद भी गंभीर बीमारी के प्रकोप से खुद को नहीं बचा सके. उन्होंने कहा कि 14 जून को वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी, जिसके बाद इस गंभीर बीमारी से बचने के लिए एंटी-वायरल दवा ली थी.

81 वर्षीय अमेरिकी व्यक्ति ने कोरोना को हराया

अमेरिका के शीर्ष संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉक्टर एंथनी फाउची ने कहा है कि उनका कोविड-19 से ठीक होना टीकों और बूस्टर खुराक से मिलने वाली सुरक्षा का उदाहरण है. उन्होंने कहा कि मैं अब वास्तव खुद को स्वस्थ्य महसूस कर रहा हू. 81 वर्षीय फाउची ने व्हाइट हाउस में संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा कि उनमें 14 जून को वायरस के लक्षण दिखे थे और एक दिन बाद उनमें संक्रमण की पुष्टि हुई थी. उन्हें 15 जून को एंटी-वायरल दवा पैक्सलोविड दी गई, जो कोविड-19 से गंभीर बीमारी और मृत्यु के जोखिम को रोकने में अत्यधिक प्रभावी साबित हुई. उन्होंने कहा कि मैं अब वास्तव में काफी अच्छा महसूस कर रहा हूं.

फाउची ने बृहस्पतिवार को कहा कि प्रशासन ने सभी उम्र के लोगों को टीकों से मिलने वाली सुरक्षा पर जोर दिया है और अमेरिका टीका पात्रता के लिए उम्र सीमा को विस्तार देकर छह महीने तक के बच्चों का टीकाकरण करने वाला दुनिया का पहला देश बन गया. फाउची ने कहा कि मुझे लगता है कि मेरी उम्र को देखते हुए मैं इसका (टीकाकरण से मिलने वाली सुरक्षा का) एक उदाहरण हूं. उन्होंने कहा कि मैंने कोविड-19 रोधी टीका लिया है. मैंने टीके की सभी खुराक और बूस्टर खुराक भी ली हैं और मुझे विश्वास है कि अगर ऐसा नहीं होता, तो मैं आपसे बात नहीं कर रहा होता.

Similar Posts