अफगानिस्तान में भूकंप ने मचाया हाहाकार, खाली जेब तालिबान ने लगाई मदद की गुहार, अब तक 1000 लोगों की मौत, 1500 घायल

Afghanistan Earthquake

अफगानिस्तान में बुधवार सुबह आए भूकंप (Afghanistan Earthquake) की वजह से 1000 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 1500 से अधिक लोग घायल हुए हैं. ये जानकारी देश की सरकारी समाचार एजेंसी ने दी है. बख्तर समाचार एजेंसी का कहना है कि अधिकारी भूकंप से प्रभावित हुए लोगों की मदद करने की कोशिश कर रहे हैं. देश में इस तालिबान का शासन (Taliban Regime) चल रहा है, जिसके पिछले साल सत्ता में आने के बाद कई अंतरराष्ट्रीय सहायता एजेंसियों ने देश से किनारा कर लिया था. ऐसे में बचाव अभियान में दिक्कतें आने के आसार हैं. वहीं तालिबान ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से मदद करने को कहा है.

इससे पहले, अधिकारियों ने बताया था कि पूर्वी अफगानिस्तान के एक ग्रामीण, पर्वतीय क्षेत्र में आए शक्तिशाली भूकंप में कम से कम 920 लोग मारे गए हैं और 600 अन्य घायल हुए हैं. इसके साथ ही अधिकारियों ने मृतक संख्या बढ़ने की आशंका जताई थी. अफगानिस्तान में पिछले दो दशकों में आया यह सर्वाधिक विनाशकारी भूकंप है. पाकिस्तान की सीमा के पास आए 6.1 तीव्रता वाले भूकंप से हुए नुकसान के बारे में फिलहाल अधिक विवरण प्राप्त नहीं हो सका है, लेकिन इतने शक्तिशाली भूकंप से दूर-दराज के इलाकों में गंभीर नुकसान होता है, जहां घर और अन्य इमारतें अधिक मजबूत नहीं बनी हुई हैं और भूस्खलन होना आम बात है.

तालिबान के लिए बड़ी चुनौती

विशेषज्ञों ने भूकंप के केंद्र की गहराई महज 10 किमी बताई है, जो इससे होने वाले नुकसान का दायर बढ़ा सकता है. इस आपदा ने तालिबान नीत सरकार के लिए एक बड़ी चुनौती पेश की है. बचावकर्मी हेलीकॉप्टर से मौके पर पहुंचे हैं. पड़ोसी देश पाकिस्तान के मौसम विभाग ने कहा कि भूकंप का केंद्र अफगानिस्तान के पक्तिका प्रांत में खोस्त शहर से करीब 50 किमी दक्षिणपश्चिम में था. खोस्त प्रांत में इमारतों को भी नुकसान पहुंचा है. भूकंप के झटके पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद से काफी दूर स्थित इलाकों में महसूस किए गए हैं.

पक्तिका से प्राप्त फुटेज में यह देखा जा सकता है कि कंबल में लिपटे हुए घायलों के लिए हेलीकॉप्टर का इंतजार किया जा रहा है. अन्य का जमीन पर इलाज किया जा रहा है. अफगानिस्तान के आपात सेवा अधिकारी शराफुद्दीन मुस्लिम ने जो मृतक संख्या बताई है, उसके आधार पर यह 2002 के बाद से सबसे विनाशकारी भूकंप है, जब 6.1 तीव्रता के भूकंप में करीब 1,000 लोगों की मौत हो गई थी. अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण के भूकंप विज्ञानी रॉबर्ट सेंडर्स ने कहा कि विश्व के ज्यादातर स्थानों पर इतनी तीव्रता के भूकंप से काफी तबाही होती है. उन्होंने कहा, पर्वतीय क्षेत्र होने के कारण भूस्खलन भी होने की आशंका है जिसके बारे में खबर आने तक हम कुछ नहीं कह सकते. पुरानी इमारतों के ढहने की आशंका है.

Similar Posts