अंतिम संस्कार में पहुंचीं राष्ट्रपति मुर्मू ने दी महारानी को श्रद्धांजलि, किंग चार्ल्स 3 से की मुलाकात

President Murmu

महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का आज अंतिम संस्कार किया जाना है. इसके लिए राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू भी शनिवार को वहां पहुंच चुकी हैं. ब्रिटेन के बकिंघम पैलेस में अंतिम संस्कार से पहले आयोजित रिसेप्शन में राष्ट्रपति ने किंग चार्ल्स तृतीय से मुलाकात की है. राष्ट्रपति मुर्मू महारानी के अंतिम संस्कार में भारत का प्रतिनिधित्व करने गई हैं. उन्होंने लंदन में रविवार को भारत सरकार की ओर से एक शोक पुस्तिका पर भी हस्ताक्षर किए.

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने रविवार को लंदन के वेस्टमिंस्टर हॉल में ब्रिटेन की दिवंगत महारानी एलिजाबेथ द्वितीय को भारत सरकार और भारत के लोगों की ओर से श्रद्धांजलि दी. राष्ट्रपति भवन ने मुर्मू की एक वीडियो क्लिप के साथ ट्वीट किया, राष्ट्रपति ने दिवंगत महारानी को अपनी ओर से और भारत के लोगों की ओर से श्रद्धांजलि दी.

महारानी को दी श्रद्धांजलि

लंदन के लैंकेस्टर हाउस में राष्ट्रपति मुर्मू के साथ कार्यवाहक उच्चायुक्त सुजीत घोष भी मौजूद थे. लंदन पहुंच रहे विश्व के नेता महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के निधन पर शोक व्यक्त करने के लिए एक पुस्तिका पर हस्ताक्षर कर रहे हैं. एलिजाबेथ द्वितीय का 96 साल की उम्र में आठ सितंबर को स्कॉटलैंड में निधन हो गया था. मुर्मू ने रविवार को वेस्टमिंस्टर हॉल में दिवंगत महारानी को श्रद्धांजलि दी, जहां एलिजाबेथ द्वितीय का पार्थिव शरीर रखा गया है.

भारतीय राष्ट्राध्यक्ष शनिवार शाम लंदन पहुंची थीं. महारानी की अंत्येष्टि में दुनियाभर के शाही परिवार के सदस्यों समेत विश्व के करीब 500 नेता शामिल होंगे. अंतिम संस्कार की रस्म वेस्टमिंस्टर एबे में की जाएगी, जहां करीब 2,000 लोगों के उपस्थित रहने की संभावना है. शोक कार्यक्रम स्थानीय समयानुसार सुबह 11 बजे शुरू होगा और एक घंटे बाद दो मिनट का मौन रखे जाने के साथ संपन्न हो जाएगा.

विश्व नेताओं के लिए रखा गया था स्वागत कार्यक्रम

राष्ट्रपति मुर्मू को रविवार शाम महाराजा चार्ल्स द्वितीय और क्वीन कॉन्सर्ट कैमिला द्वारा बकिंघम पैलेस में विश्व के नेताओं के लिए आयोजित एक स्वागत कार्यक्रम में भी आमंत्रित किया गया था. इस आधिकारिक राजकीय कार्यक्रम में ब्रिटेन आ रहे अधिकांश राष्ट्राध्यक्ष और आधिकारिक विदेश अतिथि शामिल हुए थे. महारानी की अंत्येष्टि में सोमवार को राष्ट्रमंडल के प्रतिनिधि भी शामिल होंगे. उनकी अंत्येष्टि से कुछ घंटों पहले वेस्टमिंस्टर हॉल को आम जनता के लिए बंद कर दिया जाएगा. सोमवार को स्थानीय समयानुसार सुबह आठ बजे वेस्टमिंस्टर एबे के प्रवेश द्वार विदेशी गणमान्य एवं अतिथियों के लिए खोले जाएंगे.